अतिरिक्त तहसीलदार का पुलिस ने कराया मेडिकल, कलेक्टर ने दिया नोटिस

प्रतिनिधि. उज्जैन। बेबुनियाद शिकायत पर विधायक पारस जैन की आटा मिल की जांच करने पर प्रशासन पर सवाल खड़े हो गए हैं। मामले में अतिरिक्त तहसीलदार आदर्श शर्मा का मेडिकल हो गया और शुक्रवार को कलेक्टर कलेक्टर शशांक मिश्रा ने उन्हें नोटिस भी दे दिया लेकिन जैन ने शर्मा के साथ ही शिकायत करने वाले पर भी कार्यवाही की मांग की है।

गौरतलब है जैन व उनके भाई विमल जैन की मोहननगर में आटा मिल है। गुरुवार रात अतिरिक्त तहसीलदार आदेश शर्मा मिल पर पहुंचे थे। उन्होंने मिल में कंट्रोल का गेहूं खरीदने की शंका होते हुए जांच की। गेहूं खरीदी के बिल मिलने व अनियमितता नहीं होने पर भी अति. तहसीलदार शर्मा मिल सील करने का प्रयास कर रहे थे। इस पर मंडी व्यापारियों के साथ ही जैन भी वहां पहुंच गए थे।

उन्होंने बेवजह मिल सील करने का विरोध करते हुए कलेक्टर शशांक मिश्रा को शिकायत की। आरोप लगाया अति. तहसीलदार शराब के नशे में रिश्वत के लिए हंगामा कर रहा है। बाद में व्यापारी व जैन की मांग पर अति. तहसीलदार शर्मा को जिला अस्पताल भेजा। यहां इमरजेंसी में मौजूद डॉ. जितेंद्र रघुवंशी ने शर्मा का मेडिकल कर नशे में नहीं होने की रिपोर्ट दी। बताया जाता है ढाबारोड निवासी रमाकांत पांचाल ने जैन के मिल में कंट्रोल का गेहूं खरीदने की शिकायत की थी।

प्रशासन को अतिरिक्त तहसीलदार से पूछना चाहिए कि वह बेवजह मिल सील करने पर क्यों तूला था। झूठी शिकायत करने वाले पर कार्रवाई होना चाहिए।– पारस जैन, विधायक व पूर्व मंत्री

अतिरिक्त तहसीलदार की मेडिकल रिपोर्ट में शराब पीना नहीं आया है। विवाद करने पर नोटिस जारी किया है।-शशांक मिश्रा, कलेक्टर