अधिकृत प्रत्याशियों सहित निदर्लियों ने भी नामांकन किये दाखिल

उज्जैन। नामांकन दाखिल करने के अंतिम दिन आज भाजपा एवं कांग्रेस के अधिकृत प्रत्याशियों सहित निदर्लिय प्रत्याशियों ने जुलूस निकाल कर अपना नामांकन दाखिल किया। उज्जैन उत्तर के कांग्रेस प्रत्याशी राजेन्द्र भारती ने महाकाल में पूजन कर व उज्जैन दक्षिण कांग्रेस प्रत्याशी राजेन्द्र वशिष्ठ ने सबसे पहले फ्रीगंज शिवलिंग के दर्शन किये और उसके बाद जुलूस निकला, जिसका जगह-जगह स्वागत किया गया। जबकि उज्जैन दक्षिण से भाजपा के प्रत्याशी डॉ. मोहन यादव का जुलूस टॉवर से शुरू हुआ। इनके अलावा उज्जैन उत्तर से निर्दलीय प्रत्याशी माया राजेश त्रिवेदी एवं उज्जैन दक्षिण से निर्दलीय प्रत्याशी जयसिंह दरबार ने अपने समर्थकों के साथ जुलूस निकाल कर कोठी पैलेस पहुंचकर नामांकन दाखिल किया।
टिकट नहीं मिलने से राजपूत समाज में रोष
उज्जैन। विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस ने उज्जैन जिले की एक भी सीट पर राजपूत समाज से नेता को प्रत्याशी नहीं बनाया है, जिसे राजपूत समाज में रोष है। इस संबंध में अखिलभारतीय क्षत्रिय महासभा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य हरदयाल सिंह ठाकुर ने पत्रकार वार्ता में बताया कि उज्जैन दक्षिण से जयसिंह दरबार, वीनू कुशवाह, संजय ठाकुर, उमेशसिंह सेंगर, बडऩगर से सुरेन्द्रसिंह सिसौदिया, वीरेन्द्रसिंह सिसोदिया, राजेन्द्रसिंह सौलंकी, महिदपुर से हेमंतसिंह चौहान, नारायणसिंह बापू ने दावेदारी की थी, लेकिन किसी को भी टिकिट के लिए योग्य नहीं समझा। जबकि बडऩगर विधानसभा क्षेत्र में ३२ हजार राजपूत समाज के मतदाता हैं। इसके अलावा उज्जैन दक्षिण में भी राजपूत समाज के मतदाताओं की संख्या ज्यादा है। कांग्रेस में जिस प्रकार के राजपूत समाज की उपेक्षा की है, उसका खामियाजा विधानसभा चुनाव के अलावा लोकसभा चुनाव में भुगतना पड़ सकता है।