अध्यक्ष पद के लिए रायशुमारी

 उन्हेल: भाजपा मंडल अध्यक्ष पद की दौड़ में भाजपा के कुछ नेताओं ने बीती रात अचानक एक जाजम पर बैठकर महागठबंधन बनाकर एक ही नाम पर सहमति जताने का निर्णय लिया। सूत्रों के अनुसार अध्यक्ष पद के एक प्रमुख दावेदार का विरोध करने के उद्देश्य से कुछ दावेदारों ने एकजुटता दिखाकर केवल एक नाम रायशुमारी में प्रस्तुत करने के लिए कार्यकर्ताओं के बीच चर्चा की। इस तरह जो अध्यक्ष पद के लिए अलग-अलग कवायत कर रहे थे, वह एक साथ होने से प्रमुख रूप से अब दो नाम ही रायशुमारी में अधिक सामने आए हैं।रविवार को भाजपा मंडल अध्यक्ष पद हेतु निर्वाचन अधिकारी जयप्रकाश जूनवाल तथा सहायक निर्वाचन अधिकारी अनिल शर्मा ने शासकीय विश्रामगृह पर रायशुमारी की। स्थानीय इकाईयों के अध्यक्ष व सक्रिय कार्यकर्ताओं ने रायशुमारी में भाग लिया। इसमें 252 सक्रिय सदस्यों में से 208 ने तथा 46 स्थानीय इकाईयों के अध्यक्ष में से 44 ने अपनी रायशुमारी में अध्यक्ष पद के लिए अपनी पसंद के तीन नामों का उल्लेख कर पर्ची निर्वाचन अधिकारी को सौंपी।

रायशुमारी का दौर दोपहर 3.30 बजे तक चलता रहा। इसके पूर्व निर्वाचन प्रक्रिया की जानकारी कार्यकर्ताओं को निर्वाचन अधिकारियों व मंडल अध्यक्ष मंगेश वर्मा द्वारा दी गई। रायशुमारी में भाजपा कार्यकर्ताओं ने प्रमुख रूप से नंदराम धाकड़, कैलाश विपट, रणछोड़ चौहान, विकास जायसवाल, सतीश मारू, बाबूलाल खमोरिया के नामों का उल्लेख किया, लेकिन अधिकांश कार्यकर्ताओं ने धाकड़ व विपट का उल्लेख किया।

भाजपा सूत्रों की मानें तो, अध्यक्ष पद के लिए वास्तविक रूप से जोर-आजमाइश वरिष्ठ नेताओं के सामने अब की जाएगी, जो व्यक्ति इन वरिष्ठों को अपने पक्ष में प्रभावित कर पाएगा। अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी उसे सौंपी जा सकती है। कार्यकर्ताओं में भी रायशुमारी को लेकर इसी तरह की चर्चा आम है।