अस्पताल का कारनामा : प्रसूता के पेट में छोड़ा स्पंज

शुजालपुर। शासकीय अस्पताल में ऑपरेशन के दौरान प्रसूता के पेट में स्पंज छोडऩे का मामला सामने आया है। 27 दिसंबर को छोटा बाजार निवासी प्रीति पति विकास नेमा को परिजन सिविल अस्पताल ले गए। यहां डॉ. आशारानी जैन ने प्राइवेट हॉस्पिटल में प्रसव ऑपरेशन करने के लिए रुपयों की मांग की। परिजनों ने खराब आर्थिक स्थिति का हवाला दिया तो अस्पताल में डॉ. जैन ने प्रसूता का ऑपरेशन किया। इसके बाद से प्रसूता ने असहनीय दर्द होने की बात परिजनों को बताई।

उसे 3 जनवरी को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया। दो माह तक कई डॉक्टरों से इलाज करने के बाद भी दर्द से छुटकारा नहीं मिला तो डॉक्टरों की सलाह पर सोनोग्राफी, सीटी स्कैन करने पर शरीर में बाहरी वस्तु होने का खुलासा हुआ। इसके बाद इंदौर के निजी अस्पताल में ऑपरेशन में पेट से स्पंज निकला। ऑपरेशन के दौरान इसमें उसकी छोटी आंत काटना पड़ी और मल निकासी के लिए नाभि के पास नया रास्ता बनाया। एक माह की जांच के बाद पुलिस ने 28 मार्च को डॉक्टर जैन के खिलाफ मामला दर्ज किया है।