इंदौर:’द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ देखने आए भाजपा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने रोका

इंदौर. शुक्रवार को “द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर” सिनेमाघरों में प्रदर्शित हो गई। कांग्रेस और एनएसयूआई द्वारा फिल्म के विरोध की घोषणा के बाद सुबह बड़ी संख्या में पुलिस ने सिनेमाघरों के बाहर मोर्चा संभाल लिया। यहां फिल्म देखने आए भाजपा युवा मोर्चा के सैकड़ों कार्यकर्ताओं को पुलिस ने थिएटर के भीतर जाने से रोक दिया, जिसके बाद विवाद की स्थिति उत्पन्न हो गई। पुलिस ने हल्का बल प्रयोग कर कार्यकर्ताओं को बाहर कर दिया। इसके बाद कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री कमलनाथ के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी।

शुक्रवार सुबह करीब 9 बजे सैकड़ों की संख्या में भाजपा युवा मोर्चा के कार्यकर्ता बैंड बाजे के साथ नाचते-गाते फिल्म देखने विजय नगर स्थित एक मॉल में पहुंचे थे। यहां बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं को देख पुलिस ने उन्हें थिएटर के भीतर जाने से रोक दिया। पुलिस की सख्ती के बावजूद कुछ कार्यकर्ता दूसरे रास्ते से भीतर दाखिए हो गए, जिसके बाद पुलिस ने इन्हें बाहर करने के लिए हल्का बल प्रयोग किया। पुलिस की सख्ती से गुस्साए कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी शुरू कर दी और वंदे मातरम् गाने की अनुमति मांगी, लेकिन पुलिस ने उन्हें थिएटर से बाहर जाकर वंदेमातरम् गाने को कहा। पुलिस द्वारा रोकने के बाद कार्यकर्तओं ने हंमागा शुरू कर दी। विवाद बढ़ता देख थाने से और फोर्स बुला लिया गया। इसके बाद कार्यकर्ताओं को थिएटर से बाहर किया जाने लगा।

मोर्चा के नगर अध्यक्ष मनस्वी पाटीदार का कहना है कि हम जनता के साथ है। किसी प्रकार की अराजकता नहीं होना चाहिए। फ़िल्म देखने से कोई नहीं रोक सकता है। हमने फिल्म देखने के लिए ऑनलाइन टिकट बुक रकवाई थी, लेकिन पुलिस ने हमें फिल्म देखने जाने से रोक दिया। यह मुख्यमंत्री कमलनाथ और कांग्रेस की चाल है। पुलिस ने हमें फिल्म देखने जाने देने से तो रोका ही हमें वंदेमातरम् गाने से भी रोका।

नारेबाजी कर रहे कार्यकर्ताओं ने यहां उन्हें रोकने वाले सीएसपी को तत्काल प्रभाव से बर्खास्त करने की मांग करते हुए जमकर नारेबाजी की। उन्हों कमलनाथ और कांग्रेस के विरोध में नारे भी लगाए। पुलिस का कहना था कि थिएटर संचालकों ने सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस जवान तैनात करने की मांग की थी। इतनी बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं के थिएटर पहुंचे पर उन्हें सुरक्षा की चिंता होने लगी थी।