इंश्योरेंस के क्षेत्र में बनाना चाहते हैं आप अपना कॅरियर

प्रतियोगिता के क्षेत्र में हर कोई एक बेहतर नौकरी की तलाश में है। लेकिन जब आधार ही सही नहीं है तो उससे फल की उम्मीद नहीं की जा सकती। युवाओं को सही क्षेत्र चुनने और उसमें आगे बढऩे के लिए एक मार्गदर्शन की जरूरत है। यहां हम बात कर रहे हैं इंश्योरेंस क्षेत्र में करियर बनाने की। जिसके लिए हमारा मार्गदर्शन कर रही हैं, कैनरा एचएसबीसी ओबीसी लाइफ इंश्योरेंस की चीफ पीपल ऑफिसर किरन यादव उनके दारा दिए गए टिप्स युवाओं को एक नई राह की तरफ अग्रसर कर सकते हैं।

आज के युवा ऐसी कंपनियों के लिए काम करना चाहते हैं जो उन्हें सीखने और विकास के अवसर प्रदान करती हो। इंश्योरेंस इंडस्ट्री एक ऐसी जगह है जो इस स्पेक्ट्रम में करियर प्रदान करती है। यह उनके लिए एक उत्कृष्ट करियर है जो तकनीकी कौशल से अलग चल रहा है और अपने प्रयासों से लोगों के व्यक्तिगत जीवन में बदलाव लाना चाहता है।

भारत एक अरब लोगों का देश हैं, लेकिन इनमें से अधिकांश इंश्योरेंस से दूर है- ग्राहकों को यह समझाकर कि उनके जीवन में लाइफ इंश्योरेंस कवर कितना बदलाव कर सकता है, यह सेल्सकर्मी जरूरत के समय निराशाजनक स्थितियों को कम करते हुए योग्य समाधानों से बदलने में मदद कर सकते हैं। कंपनियां उन्हें व्यापक प्रशिक्षण प्रदान करती हैं ताकि वे इन ग्राहकों की आवश्यकताओं का विश्लेषण कर सकें और इष्टतम समाधान प्रदान कर सकें।

आधारशिला- सेल्स के अलावा सभी बीमा साथियों के पास ऑपरेशंस, आईटी, ह्यूमन रिसोर्स, ट्रेनिंग, लीगल एंड फाइनेंस आदि में विभिन्न स्तरों पर जॉब्स हैं। मैथ्स / स्टैटिस्टिक्स वाले बैकग्राउंड वाले ऐसे युवा जो कुछ और सालों तक पढ़ाई कर रहे हैं, एक्चुरियल फंक्शन का मूल्यांकन कर सकते हैं – इसकी बीमा कंपनियों के लिए एक महत्वपूर्ण आधारशिला है और इनमें से कुछ भूमिकाएं अनिवार्य आवश्यकता हैं। जिटल और एनालिटिक्स उद्योग में आने वाले नए क्षेत्र हैं और इसकी काफी मांग है।

शॉर्टकट- युवा कामयाबी के लिए शॉर्टकट ढूंढते हैं। ऐसे में, आप उन्हें क्या सलाह देंगी लंबी रेस का घोड़ा बनना है तो कोई शॉर्टकट काम नहीं आएगा। सोशल मीडिया के इस दौर में लोगों के देखते ही देखते सफलता पा जाने के चलते यह आसान लगता है लेकिन हमें उनकी कड़ी मेहनत, अनुशासन और ग्लैमर के पीछे के संघर्ष के वर्ष देखने को नहीं मिलते।

अपनी ताकत पर ध्यान केंद्रित करें, नेटवर्क पर काम करें, यात्रा करें, अच्छी कंपनी में काम करें और शिक्षा से समझौता न करें। असफलता के डर से जोखिम लेना न छोड़ें और अपनी दिल की जरूर सुने।

चिकित्सा – पेशेवरों के लिए अवसर हैं और कुछ कंपनियां इस तरह की प्रतिभा के लिए काम के फ्लेक्सी.घंटे भी प्रदान करती हैं। बीमा प्रबंधन से संबंधित विशेषज्ञ पाठ्यक्रम डिग्री और इनकी काफी मांग भी हैं क्योंकि वे व्यवसाय की समझ पैदा करती है यह डिग्री किए हुए लोग संबंधित प्रशिक्षण आसानी से पूरा कर लेते हैं।

टेक्नॉलजी से अप टू डेट रहें- वर्कप्लेस पर प्रॉडक्टविटी को बढ़ाने के लिए कंपनियां स्मार्टफोन और नए ऐप्स का इस्तेमाल कर रही हैं। ऐसे में टेक्नॉलजी में होनेवाले बदलावों के मुताबिक खुद को अपडेट रखें। अगर आप टेक्नो वर्कर हैं तो आपके आसपास हो रहे बदलावों पर नजर रखना जरूरी है। आप टेक्नॉलजी में महारत हासिल करने के बाद ही काम में बदलाव ला सकते हैं और तेजी से तरक्की कर सकते हैं।