उज्जैन:आलू-प्याज व्यापारी ने कर्जदारों से परेशान होकर सल्फास खाई, मौत

उज्जैन। आलू-प्याज का व्यापार करने वाले युवक ने कर्जदारों से परेशान होकर और पार्टनरों द्वारा धोखाधड़ी करने के कारण जंगल में सल्फास की गोलियां खा ली। परिजन उसे गंभीर हालत में निजी अस्पताल ले गये जहां व्यापारी ने दम तोड़ दिया। पुलिस ने मर्ग कायम कर मामला जांच में लिया है।
गोपाल सिंह पिता रामसिंह आंजना (3४) निवासी रायपुरा ने कल जंगल में जाकर सल्फास की गोलियां खा ली और परिजनों को मोबाइल से फोन पर इसकी सूचना दी। परिजन उसे तलाशते हुए पहुंचे और गोपाल को गंभीर हालत में लेकर निजी अस्पताल पहुंचे जहां उसकी मौत हो गई। नीलगंगा पुलिस ने मर्ग कायम कर शव को पोस्टमार्टम के लिये जिला चिकित्सालय पहुंचाया। यहां गोपालसिंह के भाई विजय पटेल ने बताया कि गोपाल सिंह तराना मंडी में आलू-प्याज का व्यापार करता था।

उसने पार्टनर छोटू पाटीदार निवासी मालीखेड़ी और राजेश परमार निवासी तराना के साथ मिलकर व्यापार शुरू किया था जिसके लिये बाजार से 15 लाख रुपये का कर्ज भी लिया था। कुछ दिनों से उधार रुपये देने वाले लोग गोपाल सिंह को रुपये लौटाने का दबाव बना रहे थे, जबकि पार्टनर छोटू पाटीदार और राजेश परमार भी गोपाल से 7 लाख रुपयों की मांग कर रहे थे। इसी से परेशान होकर गोपाल ने सल्फास खाकर आत्महत्या कर ली। परिजनों का कहना है कि गोपाल ने मौत होने से पहले बयान भी दिए हैं।

इधर..उधारी न चुकाने पर मिली धमकी तो लगाई फांसी

समंदर सिंह पिता सिद्धूसिंह (50) निवासी कृष्णा परिसर महावीर बाग ने बीती रात घर में दुपट्टे से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। उसे पत्नी कृष्णाबाई ने फांसी पर लटका देखा। पुलिस द्वारा समंदर सिंह का शव बरामद कर पीएम के लिये जिला चिकित्सालय पहुंचाया। मृतक के पुत्र दीपक ने बताया कि पिछले वर्ष उसकी शादी के लिये पिता समंंदर ने गिरिराज जोशी निवासी कृष्णा परिसर, भरत निवासी महावीर बाग व एक अन्य व्यक्ति से 5 लाख रुपये उधार ब्याज पर लिये थे। इसके बदले समंदर ने उक्त लोगों को चैक पर साइन कर दिये थे। रुपये नहीं चुका पाने के कारण कर्जदार घर आकर पिता को धमकी देते थे, इसी कारण उन्होंने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।