एनपी प्रजापति बने मध्यप्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष

कांग्रेस के गोटेगांव से विधायक एनपी प्रजापति मध्यप्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष बन गए हैं। उनके पक्ष में 120 वोट पड़े थे। जबकि विपक्ष ने विधानसभा से वाकआउट कर दिया था जिसके कारण उनके विपक्ष में कोई वोट नहीं पड़ा। इससे पहले चुनाव के दौरान काफी हंगामा हुआ। सदन की कार्यवाही शुरू होने पर प्रोटेम स्पीकर ने नियम पांच का हवाला देकर बिना वोटिंग के ही प्रजापति को विधानसभा अध्यक्ष घोषित कर दिया।  प्रोटेम स्पीकर के इस कदम पर भाजपा ने हंगामा करना शुरू कर दिया। इस कारण दो बार सदन की कार्यवाही को स्थगित करना पड़ा।

इस बीच भाजपा ने विधानसभा से वाकआउट कर दिया। बसपा विधायक के द्वारा वोटिंग की मांग किए जाने पर वोटिंग कराई। प्रोटेम स्पीकर के फैसले पर राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि आज का दिन लोकतंत्र के लिए काला दिन है। सदन से वाकआउट करने के बाद चौहान ने आरोप लगाया है कि उन्हें अपने उम्मीदवार के नाम को प्रस्तावित करने तक का भी अवसर नहीं मिला।

विरोध करते हुए भाजपा के विधायकों ने राजभवन से विधानसभा तक मार्च निकाला। भाजपा विधायकों का कहना है कि वह राज्यपाल से मिलकर विरोध दर्ज करवाएंगे। वहीं विपक्ष के नेता के तौर पर गोपाल भार्गव को चुना गया है। कमलनाथ ने उन्हें बधाई दी तो वही उन्होंने सकारात्मक सहयोग का वादा दिया। संसदीय कार्यमंत्री गोविंद सिंह ने सदन की कार्ययोजना पढ़कर सुनाई।