ऐसा भोजन जो मन को रखे शांत, जानिए कैसे

फिट रहने के लिए जहां योग व अन्य एक्सरसाइज जरुरी है वहीं योगिक डाइट का होना भी लाजमी है। योगिक डाइट यानि ऐसा खाना जिसे खाने से आपका शरीर और मन दोनों तंदरुस्त रहें क्योंकि एक हेल्दी लाइफ के लिए सुडौल शरीर और शांत मन दोनों की आवश्यकता होती है। तो चलिए आज जानते हैं योगिक डाइट के बारे में कुछ खास बातें।

सात्विक भोजन

सात्विक भोजन को सबसे उत्तम आहारों की सूचि में शामिल है। ऐसा माना जाता है कि योग के साथ-साथ अगर अगर आप अपनी डाइट पर भी प्रॉपर ध्यान देते हैं तो जीवन भर आपको किसी भी शारीरिक परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा। सिंपल सादा सा यह भोजन हमारे शरीर को सभी पोषक तत्व प्रदान करने के साथ-साथ हमारे मन को शांत बनाए रखता है। सात्विक भोजन में घर का खाना, दाल-चावल, दूध और फल-फ्रूट शामिल होते हैं।

डिटॉक्सीफिकेशन

भोजन के साथ-साथ आपकी डाइट में बॉडी को डीटॉक्सीफाई करने वाले पदार्थ भी मौजूद होने चाहिए। जैसे कि नींबू और शहद। योग करने के साथ सुबह उठकर नींबू और शहद का सेवन करने से कई तरह के टॉक्सिंस और एसिड्स बॉडी में से यूरीन के जरिए बाहर निकल जाते हैं। जो आपको सारा दिन तरो-ताजा रखने में मदद करते हैं।

हरी पत्तेदार सब्जियां

हरी पत्तेदार सब्जियां खाने से हमारा शरीर मानसिक और शारीरिक दोनों तरीके से तंदरुस्त व मजबूत है। कोशिश करें कि जितना हो सके इन सब्जियों को सलाद के रुप में खाएं। जैसे कि गाजर, शलगम,मूली, खीरा और चकुंदर जैसी चीजों को कच्चा खाया जा सकता है। कच्चा खाने से इनमें मौजूद फाइबर आपके शरीर से कई तरह की बीमारियों को निष्कासित करता रहता है। इन्हें पकाकर भी खाया जा सकता है मगर पकने के बाद इन सब्जियों में मौजूद फाइबर, न्यूट्रीएंट्स और एंजाइमज काफी हद तक खत्म हो जाते हैं।

कैमीकल फ्री फूड

योगिक डाइड फॉलो करने वालों के लिए माइक्रोवेवड फूड, कैनड फूड या फिर प्रोसेस्ड फूड बिल्कुल वर्जित होता है क्योंकि ऐसा खाना आपको योग से दूर कर सकता है। आप जितना घर का बना खाना खाएंगे उतना ही आपका मन और स्वभाव शांत रहेगा।

एक दिन का उपवास

हफ्ते में एक दिन ऐसा भी जरुर रखें जिसमें आप सारा दिन केवल फल-फ्रूट ही खाएं। यह एक दिन का उपवास आपके मन और तन दोनों को शांत रखने के लिए बहुत जरुरी है। हमारा शरीर भी एक तरह की मशीन ही है, अगर मशीन लगातार चलती रहेगी तो अवश्य एक दिन काम करना बंद कर देगी। ऐसे में जरुरी है हफ्ते में एक दिन जितना हो सके फल, जूस और दूध का ही सेवन करें।