खुद को हेल्दी रखने के लिए रोजाना पीती थी लौकी का जूस, और फिर चली गई जान

इन दिनों लोगों में हेल्दी और फिट रहने की एक ऐसी प्रतिस्पर्धा है कि वो कुछ भी करने को तैयार हैं. कई बार लोग फिट रहने के लिए डायटिशियन की सलाह लेते हैं, तो कई बार घरेलू नुस्खों का इस्तेमाल करते हैं. महाराष्ट्र में खुद को हेल्दी रखने के लिएलौकी का जूस पीने से एक महिला की मौत हो गई है. पुणे में लौकी का जूस पीने से 41 साल की महिला की मौत हो गई है.

पुणे के बानेर इलाके में रहने वाली गौरी शाह मॉर्निंग वॉक के बाद लौकी का जूस पिया. जूस पीने के बाद उनके पेट में दर्द हुआ और फिर उल्टी होने लगी है. हालात ज्यादा बिगड़ने के बाद उन्हें एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया. 12 जून को अस्पताल में भर्ती होने के बाद डॉक्टरों ने उनका इलाज किया, लेकिन हालात बिगड़ते ही चले गए और 16 जून को डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

महिला का इलाज करने वाले डॉक्टरों का कहना है कि महिला की मौत कड़वे लौकी का जूस पीने से हुआ है. डॉक्टरों का कहना है कि कड़वे लौकी का जूस कड़वा होता, जो सेहत को नुकसान पहुंचाता है. उन्होंने कहा कि 12 जून को जब महिला ने लौकी का जूस पिया तो उसमें गाजर का जूस मिक्स था, इसलिए उन्हें स्वाद का पता नहीं चला. कड़वे लौकी के जूस के कारण उनके पेट में दर्द हुआ और जहर पूरे शरीर में फैल गया, जिसके बाद उनकी मौत  हो गई.

बता दें कि आयुर्वेद में लौकी का जूस काफी सेहतमंद माना गया है. ज्यादातर लोग लौकी का इस्तेमाल सब्जी बनाने के लिए करते हैं. लेकिन इसके जूस का इस्तेमाल अलग-अलग तरीकों से किया जाए तो स्वास्थ्य से जुड़ी कई समस्याएं दूर की जा सकती है. इसमें मौजूद विटामिन्स और मिनरल्स स्किन से लेकर बालों तक पूरी बॉडी पर असर डालकर इन्हें हेल्दी रखने में मदद करते हैं.

लोग इसलिए पीते हैं लौकी का जूस-
आयुर्वेदिक दवाओं की सलाह देने वालों के अनुसार, खाली पेट लौकी का जूस पीने से डायबिटीज, हृदयरोग, पेशाब से संबंधित समस्याओं में लाभ होता है। इसलिए लोग किसी की सलाह पर लौकी का जूस पीने लगते हैं। लेकिन जब लौकी का जूस कड़ुवा हो तो इसे पीने परहेज करना चाहिए नहीं तो घातक साबित हो सकता है।

नुकसान देह है लौकी का कड़वा जूस-
यदि कसैली लौकी का रस या लौकी का कड़वा जूस पीता है पेट में यह जहरीले रसायन बढ़ाता है। इसके परिणाम स्वरूप बेचैनी, पेट में दर्द, उल्टी या खून की उल्टी और तनाव बढ़ जाता है। अगर स्थिति नियंत्रित नहीं हुई तो मरीज के लिए घातक भी साबित हो सकता है। इसलिए किसी भी चीज का विशेष प्रकार से सेवन करने से पहले उससे जुड़े विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।