‘जागो भारत’ लेख प्रस्तुतिकरण प्रतियोगिता में 34 विद्यालयों के 300 बच्चों ने लिखे लेख

उज्जैन। सामाजिक संस्था रूपांतरण द्वारा युवा पीढ़ी में स्वामी विवेकानंद के प्रेरक सन्देश को प्रचारित करने के उद्देश्य से ‘जागो भारतÓ लेख प्रस्तुतिकरण प्रतियोगिता का आयोजन कालिदास संस्कृत अकादमी के पं. सूर्यनारायण व्यास संकुल हॉल में किया गया। प्रतियोगियों को स्वामी विवेकानंद के किसी एक बोध वाक्य को आधार बनाकर लेख प्रस्तुत करना था। इस हेतु उज्जैन नगर के 34 शासकीय/अशासकीय विद्यालयों से 300 विद्यार्थियों के लेख प्राप्त हुए थे। 28 विद्यालयों से 54 चयनित लेखों में से विजेता का चयन प्रस्तुतिकरण उपरांत हुआ। संस्था के राजीव पाहवा के अनुसार कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में बालयोगी उमेशनाथ महाराज थे। विशेष अतिथि के रूप में संयुक्त आयुक्त प्रतीक सोनवलकर, बरकतुल्लाह विश्वविद्यालय भोपाल वीसी प्रो. प्रमोद वर्मा, डॉ. अनुराग टिटोव (कार्यक्रम अध्यक्ष), रोटरी क्लब से रमेश साबू, मनोज तिवारी एवं विनोद शर्मा उपस्थित थे। प्रतियोगिता में 12वी की छात्रा पलक जैन ने एक विचार लो, उसे अपना जीवन बना लो। इस बोध वाक्य पर प्रथम स्थान प्राप्त कर पुरस्कार राशि 5,000 रु. जीती। द्वितीय स्थान पर 11वीं की छात्रा राशि चौहान रही जिन्हें 3,000 की राशि से पुरस्कृत किया गया। तृतीय 12वीं की छात्रा कशिश लालवानी रही इन्हें 2,000 की नकद राशि से पुरस्कृत किया गया। तीनों विजेता ज्ञान सागर अकादमी की छात्राएं हैं। इनके अलावा संजना खत्री, दर्शाना मित्तल, गौरव राठौर, आदित्य त्रिवेदी, रितिका शाह, अदितिसिंह जादौन को सांत्वना पुरस्कार के रूप में ५००-५०० रुपये की राशि प्रदान की गई।