झूलेलाल बेकरी के कारखाने से पश्चिम बंगाल के 2 बाल श्रमिक मुक्त कराए

उज्जैन। जिला बाल श्रम टास्क फोर्स समिति द्वारा बालश्रम के विरुद्ध शुक्रवार को संयुक्त रूप से सिंधी कॉलोनी स्थित झूलेलाल बेकरी के कारखाने का निरीक्षण किया गया। सहायक श्रमायुक्त मेघना भट्ट ने बताया बाल एवं कुमार प्रतिषेध व विनियमन अधिनियम 1986 के अंतर्गत गठित इस दौरान वहां पर 2 बाल श्रमिक काम करते हुए मिले।

ये दोनों बालक पश्चिम बंगाल के मुर्शीदाबाद के रहने वाले हैं। टास्क फोर्स समिति द्वारा दोनों बालकों को जिला बाल कल्याण समिति के समक्ष प्रस्तुत कर बालगृह में आश्रय दिया गया।

नियोजक के विरुद्ध बाल एवं किशोर संशोधन अधिनियम-2016 की धारा 3 के तहत प्रकरण दर्ज किया गया जिसके तहत नियोजक को 6 माह से 2 वर्ष तक का कारावास तथा 20 हजार से लेकर 60 हजार रुपए तक जुर्माना या दोनों से दंडित किये जाने का प्रावधान है।

अभियान में श्रम निरीक्षक महेंद्रसिंह ठाकुर, परियोजना निदेशक एनसीएलपी सुरेश माली, सिटी को-ऑर्डिनेटर चाइल्ड लाइन शेरसिंह ठाकुर, नरेन्द्रसिंह सेंगर और महिला सशक्तिकरण विभाग के गौरव मित्तल सम्मिलित हुए।