डेंगू जानलेवा बीमारी, इसके नियंत्रण के लिए सभी की भागीदारी जरूरी

उज्जैन। बुधवार को राष्ट्रीय डेंगू दिवस पर उज्जैन-आलोट संसदीय क्षेत्र के लोकसभा सांसद प्रो. चिंतामणि मालवीय ने हरी झंडी दिखाकर जनजागृति रैली को रवाना किया।
रैली सीएमएचओ कार्यालय से शुरू होकर विभिन्न मार्गों से जिला अस्पताल पहुंचकर समाप्त हुई। इसमें बीएससी नर्सिंग की छात्राओं ने लोगों को डेंगू की पहचान, उसके लक्षण और बचाव के उपायों के बारे में बैनर, पोस्टर और पेम्पलेट्स के माध्यम से जानकारी दी। सांसद प्रोण्चिन्तामणि मालवीय ने इस अवसर पर कहा डेंगू जानलेवा बीमारी है और इसके नियंत्रण के लिये हम सबको एकजुट होकर प्रयास करने चाहिये।

सीएमएचओ डॉ. वीके गुप्ता, रोगी कल्याण समिति सदस्य राजेश बोड़ाना व स्वास्थ्य विभाग के अन्य अधिकारी व कर्मचारी मौजूद थे। बताया गया कि डेंगू रोग एडीज नामक मादा मच्छर के काटने से फैलता है। यह मच्छर चिकनगुनिया, पीला बुखार और जीका वायरस का भी संक्रमण करता है। डेंगू गंभीर रोग है जो किसी भी उम्र के लोगों को प्रभावित करता है। इसके लक्षण हैं बुखार के साथ-साथ तेज सिरदर्द, आंखों मे दर्द, जोड़ों में दर्द, उल्टी होना व त्वचा पर लाल चट्टे पड़ जाना। कई बार डेंगू रोग के कारण नाक व मसूड़े से रक्तस्राव भी हो जाता है। यह स्थिति बेहद गंभीर होती है। समय पर उपचार न लेने पर व्यक्ति मौत भी हो सकती है।

ऐसे फैलता है डेंगू
यह रोग मच्छरों के काटने से फैलता हैए जब कभी एडीस मच्छर डेंगू के रोगी को काटता है तो वह खून के साथ डेंगू वायरस को भी चूसता है। यह वायरस मच्छर के शरीर मे विकसित होता है व बाद में दूसरे व्यक्ति को काटने से उसमें डेंगू का संक्रमण हो जाता है। बारिश के मौसम मे इनकी संख्या बढ़ जाती है।

ये सावधानियां रखें
डेंगू रोग से बचने के लिये घर के आसपास साफ.सफाई रखेंए मच्छरों को रोकने के लिये पानी की टंकियों को ढंककर रखेंए कूलर एवं बर्तनों में रखे पानी को समय.समय पर बदलेंए ताकि इनमें लार्वा न फैल सके। प्राय: स्वच्छ पानी के स्रोतों में एडीज मच्छर का लार्वा पनपता है। सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग अवश्य करें। समस्त शासकीय अस्पतालों मे डेंगू रोग की नि:शुल्क जांच एवं उपचार सुविधा उपलब्ध है।