तीस हजारी कोर्ट में वकीलों और पुलिस के बीच झड़प, कई गाड़ियां फूंकीं

दिल्ली में पार्किंग को लेकर शनिवार को दिन में तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच में जबरदस्त झड़प हो गई। यह विवाद इतना बढ़ा कि यह हिंसक झड़प में तब्दील हो गया। वकीलों ने एक जेल वैन और एक पीसीआर में आग भी लगा दी है।
इस समय अदालत परिसर का माहौल तनावपूर्ण बना हुआ है। बताया जा रहा है कि कई गाड़ियों में तोड़फोड़ और फायरिंग भी की गई। समन्वय समिति के अध्यक्ष महावीर शर्मा और सेक्रेटरी जनरल धीर सिंह कासना ने एलान किया है कि जिला अदालतों में 4 नवंबर को कोई काम नहीं होगा। यह फैसला तीस हजारी कोर्ट में पुलिस द्वारा वकीलों पर फायरिंग करने के विरोध में लिया गया है।

बवाल बढ़ता देख कई थानों की पुलिस अदालत परिसर में बुला ली गई है। बताया जा रहा है कि इस घटना में एक वकील जिसका नाम विजय वर्मा है, घायल हो गया है। उसे तुरंत पास के ही सेंट स्टीफंस अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उसका इलाज चल रहा है।

दूसरी तरफ पुलिस का कहना है कि फायरिंग की कोई घटना नहीं हुई है, लेकिन पुलिस की गाड़ियों को आग जरूर लगाई गई है। अब तक जो जानकारी मिली है उसके अनुसार लॉक अप के बाहर तीसरी बटालियन की पुलिस और वकीलों के बीच पार्किंग विवाद को लेकर झगड़ा हो गया। पुलिस की यह बटालियन कैदियों को अदालत ले जाने का काम करती है।

विवाद के बाद वकीलों ने पुलिस अफसरों को पीट दिया और एसएचओ से भी हाथापाई कर ली। कुछ प्रत्यक्षदर्शियों का तो ये भी कहना है कि विवाद के हिंसक रूप लेने के बाद वकीलों को जो भी पुलिसवाला दिखा उसे उन्होंने दौड़ा-दौड़ाकर पीटा।