तुला

दैनिक

परेशानियों से जूझने के लिए दोस्तों की मदद लें। अतीत को लेकर दुःखी होने या उसे भुलाने की कोशिश करने का कोई फ़ायदा नहीं है, क्योंकि इससे केवल आपकी मानसिक और शारीरिक ऊर्जा में गिरावट आएगी। आर्थिक समस्याओं ने रचनात्मक सोचने की आपकी क्षमता को बेकार कर दिया है। घर में कुछ बदलाव लाने के लिए पहले बाक़ी लोगों की राय भली-भांति जान लें। आप महसूस करेंगे कि प्यार में बहुत गहराई है और आपका प्रिय आपको सदा बहुत प्यार करेगा। लंबित परियोजनाएँ पूरी होने की दिशा में बढ़ेंगी। सुनी-सुनाई बातों पर आँखें मूंदकर यक़ीन न करें और उनकी सच्चाई को भली-भांति परख लें। वैवाहिक जीवन में कई उतार-चढ़ाव के बाद एक-दूसरे के प्यार को सराहने का यह सही दिन है। उपाय :- तांबे का पैसा और चाँदी दूध व चावल से धोकर जमीन में दबाएं, चावल, दूध घर के बाहर किसी पौधे में डालने से स्वास्थ्य अच्छा रहेगा।

साप्ताहिक 25 Dec 2017 – 31 Dec 2017

सप्ताह की शुरुआत अच्छी रहेगी। बस अपने क्रोध पर नियंत्रण रखें और न ही दूसरों पर दबाव डालें। पारिवारिक जीवन में कुछ उथल पुथल रह सकती है। कार्यक्षेत्र में मन लगाकर मेहनत करें। आपकी दिनचर्या व्यस्त रहेगी। छोटी दूरी की यात्रा के योग बनेंगे। भाई बहनों की सेहत का ध्यान रखें। संतान प्रगति पथ पर आगे बढ़ेगी और विद्यार्थियों को भी पढ़ाई में आनंद आएगा।

वार्षिक

2017 का तुला राशिफल बतलाता है कि नौकरीपेशा लोगों के लिए यह वर्ष अच्छा रहने वाला है। अपने विरोधियों को पछाड़कर आप आगे बढ़ेंगें। सेल्स और मार्केटिंग से जुड़े लोग अपने ग्राहकों से लच्छेदार बातचीत करके काम निकालने में सफल रहेंगे। जो लोग नौकरीपेशा हैं उन्हें प्रोमोशन के साथ-साथ कोई अतिरिक्त ज़िम्मेदारी भी मिल सकती है जहाँ उनका रुतबा बढ़ जायेगा। अगर आपका ट्रांसफर होता है, तो उसे स्वीकार कर लें क्योंकि आगे इससे आपको बहुत लाभ मिलने की संभावना है। व्यावसायिक प्रगति के लिए समय अनुकूल है। व्यापारी वर्ग इस वर्ष किसी नए कार्य में धन निवेश करें तो उन्हें लाभ प्राप्त होगा। परंतु साल के अंत में कोई बड़ा निवेश करने से बचे। पैसों के लेन-देन में भी सतर्कता बरतें क्योंकि किसी भरोसेमंद व्यक्ति से धोखा मिल सकता है। शेयर बाजार से जुड़े जातकों के लिए समय अच्छा नहीं है। भावनाओं में बहकर किसी भी प्रकार का निवेश करने से बचें। साल के मध्य से आपको अच्छी प्रगति मिलने की संभावना है।

            kalash २०१६  kalash

                   decoration
०५ जनवरी (मंगलवार) सफला एकादशी
०६ जनवरी (बुधवार) वैष्णव सफला एकादशी
२० जनवरी (बुधवार) पौष पुत्रदा एकादशी
०४ फरवरी (बृहस्पतिवार) षटतिला एकादशी
१८ फरवरी (बृहस्पतिवार) जया एकादशी
०५ मार्च (शनिवार) विजया एकादशी
१९ मार्च (शनिवार) आमलकी एकादशी
०३ अप्रैल (रविवार) पापमोचिनी एकादशी
०४ अप्रैल (सोमवार) गौण पापमोचिनी एकादशी वैष्णव पापमोचिनी एकादशी
१७ अप्रैल (रविवार) कामदा एकादशी
०३ मई (मंगलवार) बरूथिनी एकादशी
१७ मई (मंगलवार) मोहिनी एकादशी
०१ जून (बुधवार) अपरा एकादशी
१६ जून (बृहस्पतिवार) निर्जला एकादशी
३० जून (बृहस्पतिवार) योगिनी एकादशी
०१ जुलाई (शुक्रवार) गौण योगिनी एकादशी वैष्णव योगिनी एकादशी
१५ जुलाई (शुक्रवार) देवशयनी एकादशी
३० जुलाई (शनिवार) कामिका एकादशी
१४ अगस्त (रविवार) श्रावण पुत्रदा एकादशी
२८ अगस्त (रविवार) अजा एकादशी
१३ सितम्बर (मंगलवार) परिवर्तिनी एकादशी
२६ सितम्बर (सोमवार) इन्दिरा एकादशी
१२ अक्टूबर (बुधवार) पापांकुशा एकादशी
२६ अक्टूबर (बुधवार) रमा एकादशी
१० नवम्बर (बृहस्पतिवार) देवुत्थान एकादशी
११ नवम्बर (शुक्रवार) गौण देवुत्थान एकादशी वैष्णव देवुत्थान एकादशी
२५ नवम्बर (शुक्रवार) उत्पन्ना एकादशी
१० दिसम्बर (शनिवार) मोक्षदा एकादशी
२४ दिसम्बर (शनिवार) सफला एकादशी
                   decoration

कभी कभी एकादशी व्रत लगातार दो दिनों के लिए हो जाता है। जब एकादशी व्रत दो दिन होता है तब स्मार्थ-परिवारजनों को पहले दिन एकादशी व्रत करना चाहिए। दुसरे दिन वाली एकादशी को दूजी एकादशी कहते हैं।