दांत निकलते समय आप अपने शिशु को जरूर दें यह आहार

आमतौर पर, शिशु के जन्म के 5 से 6 महीनों के बाद दांत निकलने शुरु हो जाते हैं। लेकिन, कई बार कुछ बच्चों में जल्दी दांत निकलने की बजाए देर से निकलते हैं। ऐसे में, पेरेंट्स चिंता में आ जाते हैं, लेकिन इसमें चिंता की कोई बात नहीं है। क्योंकि, बच्चों के दांत इस तरह से निकल सकते हैं-

कितने दिनों में शिशु के सारे दांत निकल आयेंगे ?

सामान्यतः बच्चों में लगभग दो से पांच साल के भीतर सारे दूध के दांत आ जाते हैं। लेकिन, अब आपको यह लग रहा होगा कि कौन से दांत सबसे पहले निकलता है। तो निचे वो भी बताए जा रहे हैं-

नीचे के सामने वाले दांत- लगभग पांच से सात महीने में आते हैं

ऊपर के सामने वाले दांत- छह से आठ महीने में आते हैं

ऊपर के पिछले दांत – नौ 11 महीने में आते हैं

नीचे के पिछले भाग वाले दांत- 10-12 महीने में आते हैं

दाढ़ (पीछे के दांत)- 12-16 महीनों में आते हैं

दूसरी दाढ़- 20-30 महीनों में आती है।

शिशु में दांत निकलने के क्या लक्षण हो सकते हैं ?

आस-पास के मसूड़ों में लाली और सूजन

मसूड़ों में दर्द का होना

चिड़चिड़ापन

कानों और जबड़ों के आस-पास दर्द की समस्या

शिशु का बार-बार कान खींचना

पतले दस्त की समस्या

मुंह से बहुत अधिक लार का गिरना

शिशु का बहुत अधिक सुस्त रहना

दांत निकलते समय शिशु को दी जाने वाली आहार

दांत निकलते समय बच्‍चे को दस्‍त या अन्‍य कई छोटी-मोटी परेशानियां होती हैं। ऐसे में उसका पूरा ध्‍यान रखा जाना जरूरी है। क्योंकि, इस दौरान शिशु खाना-पीना भी कम कर देता है, ऐसे में आप शिशु को कुछ ऐसे आहार दे सकती हैं जो इस समय उनके लिए फायदेमंद हो सकता है, जिनमें निम्न शामिल हैं-

बच्चों में दांत निकलते समय उन्हें आप केला, उबला हुआ सेब, संतरे का जूस, दाल का पानी, मूंग दाल की खिचड़ी और सूजी की खीर दे सकती हैं।

शिशु को कैल्शियम, प्रोटीन, आयरन, विटमिन और मिनरल्स युक्त खाद्य पदार्थ दें।

बच्चे को ठंडा भोजन देना भी दांत निकलने के दौरान परेशानी से बचने का एक अच्छा तरीका है। यह उन बच्चों के लिए भी फायदेमंद हो सकता है, जिन्होंने ठोस भोजन लेना शुरू कर दिया है। अपने बच्चे को दांत निकलने के दौरान होने वाले दर्द से निजात दिलाने के लिए ठंडा भोजन दें।

इस दौरान शिशु के मसूड़ों में बहुत अधिक खुजली होती है, इसलिए आप उन्हें गाजर दे सकती हैं जिससे उन्हें मसूढे की खुजली से राहत मिलेगी और उसकी सेहत को भी कोई नुकसान नहीं होगा।

अगर आपका शिशु छह महीने से बड़ा है, तो उसे ठंडे खाद्य पदार्थ खाने को दें, क्योंकि इससे उन्हें राहत मिल सकती है, जैसे कि फ्रिज से निकाला हुआ सेब की प्यूरी या दही।

बच्चे को धूप में लिटाना भी फायदेमंद होता है। धूप बच्चों के दांतों और हड्डियों को मजबूत बनाता है। क्योंकि धूप में प्राकृतिक विटमिन डी होता है।

इसके अलावा, आप शिशु के मसूड़े की मसाज कर सकती हैं, जिससे कि शिशु को काफी आराम मिलेगा। लेकिन, जब भी आप शिशु के मसूड़े की मसाज करें तब इस बात का जरूर ध्यान रखें कि आपके हाँथ साफ हों। क्योंकि, इस दौरान शिशु को इंफेक्शन होने का खतरा सबसे अधिक रहता है। इसलिए शिशु को छूने या खाने देने से पहले अपने हाँथ के साथ-साथ बर्तन की सफाई भी की जानी चाहिए।