दानीगेट गैंगवार और जिला अस्पताल में हुई चाकूबाजी में एक युवक ने दम तोड़ा

उज्जैन। दो दिन पूर्व दानीगेट क्षेत्र में गैंगवारी तथा बाद में इसी घटनाक्रम के घायल प्रदीप खत्री को जिला चिकित्सालय में देखने आए २५ वर्षीय युवक कान्हा उर्फ अर्पित टांक पिता राजेश टांक निवासी पीपलीनाका भाटी कॉलोनी सहित गोलू पिता अशोक निवासी जूना सामवारिया, जयप्रकाश पिता शांतिलाल निवासी जानसापुरा पर आरोपी दुर्लभ कश्यप, हेमंत बोखला, सोनू डागर व अन्य अज्ञातों ने चाकू से हमला कर दिया था।
घायल हुए कान्हा उर्फ अर्पित को इस हमले में चाकू से १३-१४ घाव पहुंचे थे, जिसका सघन उपचार जारी था। लेकिन उपचार के दौरान कान्हा उर्फ अंकित टांक की मौत हो गई है। पुलिस के लिए यह गैंगवारी सिरदर्द बन गई है। जिला अस्पताल में सीएसपी रूहल भी पहुंची तथा कहा कि जो भी इसमें शामिल है उसे जल्द गिरफ्तार किया जाएगा।

ज्ञातव्य है कि दो दिन पूर्व सनी उर्फ देवेन्द्र पिता विजय सिंह दलोरिया निवासी रामघाट, प्रदीप, शिवम, नीतिन, पारस और विशाल दानीगेट क्षेत्र में खड़े थे उसी दौरान जन्मदिन की पार्टी मनाकर आये दुर्लभ कश्यप, राजदीप मण्डलोई, बोखला उर्फ हेमंत व इनके अन्य साथ यहां पहुंचे। दोनों पक्षों के बीच पुराने विवाद को लेकर कहासुनी हुई जिसके बाद युवकों ने चाकू, पाईप, पत्थरों से एक दूसरे पर हमला बोल दिया। मारपीट में प्रदीप को पेट में चाकू लगने पर गंभीर चोंटे आई जिसे तुरंत जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया।

इसकी जानकारी जब प्रदीप के दोस्त गोलू पिता अशोक निवासी जूना सोमवारिया, जयप्रकाश पिता शांतिलाल निवासी जांसापुरा और कान्हा को लगी तो तीनों अपनी मोटर सायकल से जिला चिकित्सालय पहुंचे। यहां पर दूसरे पक्ष के दुर्लभ कश्यप, राजदीप सहित अन्य युवक पहले से मौजूद थे। गोलू और उसके दोस्त जब प्रदीप को अस्पताल से देखकर बाहर निकले तो गेट पर बदमाशों ने उन्हें घेर लिया और चाकू से प्राणघातक हमला बोल दिया था।

मारपीट में गोलू गंभीर घायल हुआ जबकि कान्हा व जयप्रकाश को भी चोट आई। गंभीर घायलों का निजी अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती कराया गया था। इधर जीवाजीगंज पुलिस ने मामले में दो युवकों को हिरासत में लिया है, जबकि कोतवाली पुलिस ने भी गोलू पर प्राणघातक हमले का केस दर्ज किया। टीआई ओपी मिश्रा ने बताया डेढ़ वर्ष पूर्व अनिल डागर का दूसरे पक्ष से विवाद हुआ था और तभी से दोनों पक्षों के बीच विवाद चल रहा है। इधर कोतवाली पुलिस ने घायल गोलू की रिपोर्ट पर दुर्लभ कश्यप, राजदीप मंडलोई निवासी अब्दालपुरा, बोरवला निवासी भेरूनाला, सोनू ठाकुर, तुषार खत्री निवासी भेरूनाला सहित 3 अज्ञात बदमाशों के खिलाफ 307 का केस दर्ज किया था।

पुलिस कर सकती है बड़ी गिरफ्तारी
कान्हा की मौत के बाद सुबह जिला चिकित्सालय में भारी भीड़ लग गई तथा घायल गोलू और जयप्रकाश के परिजन और परिचित भी लामबंध हो गए। पुलिस विभाग को जिला चिकित्सालय में भीड़ नियंत्रित करने तथा मृतक का पोस्टमार्टम कराने व अंतिम संस्कार की तैयारी के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ रही थी। संभावना है कि ड़ेढ वर्ष से चली आ रही इस गैंगवारी में और भी हमले हो सकते हैं। इन्हीं सब स्थितियों को देखते हुए पुलिस सख्त कदम उठाने तथा इसमें राजनैतिक हस्तक्षेप को दरकिनार करते हुए बड़ी गिरफ्तारियां करने की तैयारी भी कर रही है।