दिल को सेहतमंद रखने के लिए रोजाना लें अच्छी नींद

क्या आप पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं? तो फिर आपको अपनी सेहत के प्रति थोड़ा सावधान होने की खास जरूरत है। यह सुनने में हैरतअंगेज लग सकता है, लेकिन नींद का दिल की बीमारियों से रिश्ता हो सकता है।

जो लोग पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं, उन्हें दिल की बीमारियों का अधिक खतरा होता है। ये बीमारियां रक्तवाहिनियों अर्थात कार्डियोवेस्कुलर और धमनियों अर्थात कोरोनरी से संबंधित हो सकती हैं। अगर आप इन जोखिमों को कम करना चाहते हैं, तो आपको पर्याप्त समय तक गहरी नींद जरूर लेनी चाहिए।

शोधकर्ताओं के अनुसार, बहुत कम सोने से हमारे स्वास्थ्य और जैविक प्रक्रियाओं पर असर पड़ता है। इससे ग्लूकोज के पाचन में गड़बड़ी आ सकती है, रक्तचाप असामान्य हो सकता है और सूजन की समस्या हो सकती है।

नींद की कमी से उच्च रक्तचाप हो सकता है, तंत्रिका तंत्र की गतिविधि असामान्य हो सकती है और हृदय गति बढ़ सकती है। हालांकि ज्यादा सोने से भी ये समस्याएं हो सकती हैं। जब हम सोते हैं, तब हमारा रक्तचाप कम हो जाता है। लेकिन पर्याप्त नींद नहीं लेने पर रक्तचाप बढ़ने की संभावना रहती है।

ज्यादा कामकाज के बोझ से दिल पर दबाव पड़ता है, जो सेहत के लिए नुकसानदेह है। ऐसी स्थितियां अकसर दिल की बीमारी की ओर ले जाती हैं। अगर नींद सामान्य हो तो रक्तचाप का स्तर भी सामान्य रहेगा।

नींद से वंचित व्यक्तियों में तनाव से जुड़े कोर्टिसोल हार्मोन का स्तर ऊंचा हो जाता है जो शरीर को खतरे में डालता है, क्योंकि यह वजन और इंसुलिन के स्तर को बढ़ाता है।

एक व्यक्ति को एक दिन में कितना सोना चाहिए? इस सवाल का जवाब हर व्यक्ति के लिए अलग हो सकता है। लेकिन आमतौर पर हममें से ज्यादातर लोगों को प्रतिदिन सात से आठ घंटे सोने की जरूरत होती है। जो लोग एक दिन में पांच घंटे से भी कम समय तक सोते हैं, उन्हें धमनी से जुड़ी दिल की बीमारियों का जोखिम सामान्य लोगों के मुकाबले 40 फीसदी अधिक होता है।

दरअसल नींद की कमी कोरोनरी धमनियों को प्रभावित करती है, जिससे दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ जाता है। अपर्याप्त नींद चिड़चिड़ापन, अधीरता, एकाग्रता में बाधा और आक्रामकता की ओर ले जाती है तथा पूरे दिन थकान का एहसास कराती है।

वैकल्पिक चिकित्सा में अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए नींद को महत्वपूर्ण बताया गया है। वैज्ञानिक सबूत बताते हैं कि नींद की कमी किस प्रकार बीमारियों का खतरा बढ़ा देती है।

नींद को बेहतर बनाने के उपाय
-अपने वजन को संतुलित बनाए रखें।
-नियमित व्यायाम करें।
-रात को एक गिलास गर्म दूध पिएं (मलाई रहित)
-रात में मसालेदार और तैलीय भोजन करने से पूरी तरह बचें।
-रात में कॉफी और चाय लेने से बचें।
-कैल्शियम सप्लीमेंट लें।-अनुकूल वातावरण में सोएं और मन को शांत करने वाली दिनचर्या अपनाएं। जैसे- पढ़ना, कैमोमाइल चाय पीना, स्नान करना या मधुर संगीत सुनना।