नए दोस्त बनाने में होती है परेशानी तो अपनाएं ये 5 ‘फ्रैंडशिप टिप्स’, हर कोई बनेगा दोस्त

कई लोग इस बात को लेकर दुखी होते हैं कि कोई भी उनका दोस्त नहीं बनना चाहता है। अकेलेपन के कारण जिंदगी उन्हें उबाऊ लगने लगती है। टीनएज में लड़के-लड़कियां आपस में एक दूसरे की तरफ आकर्षित होते हैं।

इस उम्र में ऐसी कई बातें होती हैं, जिन्हें आप घर-परिवार के लोगों से शेयर नहीं कर सकते हैं। यही कारण है कि अपनी बातें शेयर करने, घूमने और जज्बात समझाने के लिए हर किसी को कुछ दोस्तों की जरूरत होती है।

मगर कई लोगों की ‘निगेटिव पर्सनैलिटी’ के कारण कोई उनसे दोस्ती नहीं करता है। अगर आपकी भी यही समस्या है, तो हम आपको बता रहे हैं कुछ फ्रैंडशिप टिप्स, जो हर किसी के लिए जरूरी हैं।

जो जैसा है उसे वैसा स्वीकार करें

हर किसी की पर्सनैलिटी आदतें और बात करने का तरीका अलग होता है। कई बार ऐसा होता है कि आपकी जिंदगी में शामिल लोगों की आदतें आपको पसंद नहीं आतीं। ऐसे में आप उन्हें बदलने की जगह उन्हें वैसे ही स्वीकार करें। लेकिन ऐसे लोगों से खुद को बचाना ना भूलें। अगर आप लोगों को वैसा ही स्वीकार करेंगे, जैसे वे हैं, तो दोस्ती आसानी से हो जाएगी।

अनजाने लोगों की मदद करें

अगर आप दिनभर अपने लिए जीते हैं और अपनी ही परवाह करते हैं, तो कोई आपको क्यों दोस्त बनाएगा? इसलिए हर रोज कुछ अनजाने या जान-पहचान के लोगों की मदद करें। कभी-कभी आप दूसरों के लिए छोटी सी चीज करके उनके दिल में बड़ी जगह बना लेते हैं। आप हर किसी के लिए सब कुछ नहीं कर सकते हैं लेकिन कुछ लोगों के लिए छोटी-छोटी चीजें करके उन्हें खुश कर सकते हैं।

हमेशा खुश रहें और आत्मविश्वास से भरे रहें

अगर आपके चेहरे पर किसी को देखकर मुस्कुराहट नहीं आती है, तो दोस्ती की शुरुआत नहीं हो सकती है। हमेशा खुश रहने वाले और आत्मविश्वास से भरे लोग सभी को पसंद आते हैं, फिर चाहे वो लड़के हों, या लड़कियां। जिन लड़कों में आत्मविश्वास होता है और जो हमेशा खुशमिजाज रहते हैं, वे लड़कियों की पहली पसंद होते हैं।

हर किसी का सम्मान करें

सम्‍मान हर व्‍‍यक्ति का अधिकार है। और आपका दायित्‍व कि आप हर किसी के साथ सम्मान के साथ पेश आएं। यहां तक कि जो आपके साथ बुरा व्यवहार करते हैं, उनके प्रति भी करुणा का भाव रखें। इसलिए नहीं कि वे बहुत अच्छे हैं, बल्कि इसलिए क्योंकि आप बहुत अच्छे हैं। किस तरह के लोग इज्जत के काबिल हैं इसके लिए सीमाएं बनाना थोड़ा मुश्किल है। इसलिए हर किसी के साथ अच्छे से और प्यार से बात करें।

गलतियों को माफ करना सीखें

दिल में नफरत के साथ ना जिएं। क्योंकि जब किसी से नफरत करते हैं तो सामने वाले से ज्यादा खुद को तकलीफ देते हैं। ऐसे में जो भी आपको दुख पहुंचाता है उसे माफ कर आगे बढ़ें। माफ करने का मतलब यह नहीं है कि जो कुछ भी हुआ आप उसे भूल चुके हैं। इसका मतलब यह कि आप इस घटना से सीख ले चुके हैं और माफ करके आगे बढ़ने में यकीन रखते हैं।