नवजात बालिका को छोडऩे वाली महिला का नहीं लगा सुराग

उज्जैन। सौलह सागर के सामने गांधी नगर के एक मकान की तीसरी मंजिल पर बने कमरे में कोई अज्ञात महिला नवजात बालिका को बोरे में लपेट कर छोड़ गई। यह तो बालिका की किस्मत थी कि मकान मालिक मेहमान आने के कारण उक्त कमरे में पहुंचा तब इसकी जानकारी लगी।
बालिका को जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। गांधी नगर निवासी फिरोज खान पिता जान मोहम्मद खान मंडी में व्यापारी है। गांधी नगर में इनके दो मकान है, एक मकान में नीचे एवं दूसरी मंजिल पर किराएदार रहते है जबकि तीसरी मंजिल पर बना कमरा खाली पड़ा हुआ है। फिरोज खान अन्य मकान में रहते है।

उनके यहां पर मेहमान आ जाने के कारण वह अपने पिता के साथ दूसरे मकान की तीसरी मंजिल पर बने कमरे में सोने के लिए पहुंचे तो वहां पर एक बोरा दिखाई दिया जो की हिल रहा था, शंका होने पर खोल कर देखा तो उसमें बालिका लिपटी थी। इस पर किराएदारों को भी सूचना दी। जानकारी लगने पर चिमनगंज थाने से भी अधिकारी मौके पर पहुंचे।

आशंका यह है कि किसी महिला को तीसरी मंजिल पर बना कमरा खाली होने की जानकारी थी। इसलिए वह जन्म देने के बाद बालिका को बोरे में लपेटकर उपरोक्त कमरे में छोड़ गई। इस मामले में पुलिस द्वारा प्रकरण दर्ज कर जांच की जा रही है। आशंका जताई जा रही है कि आस-पास की किसी महिला ने जन्म देने के बाद बच्ची को बोरे में लपेटकर कमरे में छोड़ा है।