उज्जैन:नागचंद्रेश्वर के दर्शन के लिए उमड़ा भक्तों का सैलाब

उज्जैन. श्रावण सोमवार और नागपंचमी के विशेष संयोग से नागचंद्रेश्वर के दर्शन के लिए रविवार रात में ही अनुमान से ज्यादा भीड़ उमड़ पड़ी। रात से सुबह तक एक लाख से ज्यादा लोग अपने आराध्य के दर्शन कर चुके हैं, वहीं डेढ़ किलोमीटर से ज्यादा लंबी लाइन में भक्त खड़े होकर अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं। इसके अलावा लगातार भक्तों के उज्जैन पहुंचने का सिलसिला जारी है।

साल में एक बार नागपंचमी पर खुलने वाला महाकाल मंदिर की तीसरी मंजिल पर विराजित नागचंद्रेश्वर मंदिर के पट रविवार रात 12 बजे खुले, यहां भक्त सोमवार रात 12 बजे तक दर्शन कर पाएंगे। रात 12 बजे महानिर्वाणी अखाड़े के महंत प्रकाश पुरी ने नागचंद्रेश्वर मंदिर के पट खोले। इसके पहले उन्होंने मंदिर के बाहर लगी नागशैया पर विराजित शिव-पार्वती का पूजन किया। पट खोल कर मंदिर के भीतर भगवान नागचंद्रेश्वर महादेव का पूजन-अभिषेक किया। पूजन में शासन की ओर से कलेक्टर शशांक मिश्र शामिल हुए। पूजन के दौरान गर्भगृह में अधिकारी, जनप्रतिनिधि और अन्य वीआईपी मौजूद थे। इस बार पूजन में 15 मिनट का समय ही लगाया। इससे आम श्रद्धालुओं के दर्शन जल्द ही शुरू हो गए। दर्शन खुलते ही श्रद्धालु जय-जयकार करते हुए मंदिर में पहुंचने लगे।

एकमात्र प्रतिमा, जहां पर शिव-पार्वती सर्प शय्या पर विराजित
नागचंद्रेश्वर मंदिर के गर्भगृह में शिवलिंग विराजमान है। गर्भगृह के बाहर दीवार पर 11वीं शताब्दी की दुर्लभ प्रतिमा है। इसमें फन फैलाए नाग के आसन पर शिव-पार्वती बैठे हैं। मान्यता है यह एकमात्र प्रतिमा है जिसमें भगवान शिव-पार्वती सर्प शय्या पर विराजित हैं।

आज दोपहर में पूजन: नागचंद्रेश्वर का सोमवार दोपहर 12 बजे अखाड़े द्वारा पूजन किया जाएगा। इसके बाद मंदिर समिति द्वारा महाकालेश्वर की सायं आरती के बाद नागचंद्रेश्वर की पूजन-आरती की जाएगी।

यहां से दर्शनार्थियों को प्रवेश : नागचंद्रेश्वर के दर्शन के लिए सामान्य दर्शनार्थियों को त्रिवेणी संग्रहालय की ओर से आने वाले मार्ग पर लगे बेरिकेड्स से प्रवेश दिया है। दर्शनार्थी हरिफाटक ब्रिज से रूद्रसागर की ओर आकर कतार में लग सकते हैं। 250 रु. से शीघ्र दर्शन करने के लिए शंख द्वार से प्रवेश दिया जाएगा।

महाकालेश्वर के दर्शन के लिए हरसिद्धि चौराहे से प्रवेश : सोमवार को महाकालेश्वर दर्शन के लिए हरसिद्धि चौराहे से बडा गणेश होते हुए चार नंबर गेट भस्मआरती प्रवेश द्वार से प्रवेश दिया है।

लड्डु प्रसाद के लिए काउंटर : सोमवार को महाकाल मंदिर के निर्गम द्वार के सामने नगर निगम फूड जोन परिसर में लड्डू प्रसाद के चार काउंटर लगाए हैं।

प्राथमिक मेडिकल सुविधा यहां : सरस्वती शिशु मंदिर महाकालपुरम, माधव सेवा न्यास, फेसेलिटी सेंटर एवं मंदिर प्रांगण में प्राथमिक मेडिकल सुविधा उपलब्ध है।