ना रामघाट पर बदबूदार पानी बदला ना ही सप्त सागरों की दशा सुधरी

उज्जैन। रामघाट पर शिप्रा नदी का बदबूदार पानी श्रद्धालुओं की आस्था आहत कर रहा है। इस बीच अधिकमास शुरू हो गया है। श्रद्धालुओं को इसी बदबूदार पानी में स्नान कर पुण्य पवित्र मास में दर्शन पूजन करना पड़ रहा है, वहीं रूद्रसागर, गोर्धन सागर, क्षीरसागर जैसे सप्त सागरों में भी दर्शन पूजन के लिये पहुंच रही महिलाओं को अव्यवस्थाओं का शिकार होना पड़ रहा है।
अधिकमास आरंभ होते ही धार्मिक नगरी में भागवत कथा श्रवण, स्नान, सप्त सागर पूजन, नौ नारायण दर्शन, 84 महादेव यात्रा जैसे धार्मिक आयोजन आरंभ हो गये हैं। सुबह 84 महादेव में प्रथम अगस्तेश्वर महादेव में दर्शन पूजन के बाद श्रद्धालुओं ने शिवनगरी में विराजित चौरासी महादेव दर्शन आरंभ किए, वहीं रामघाट पर स्नान के बाद रूद्रसागर स्थित रूद्रेश्वर महादेव का पूजन कर अधिकमास का पुण्य फल प्राप्त किया।

वहीं नौ नारायण यात्रा भी आरंभ हो गई है। लीला पुरुषोत्तम मंदिर, अनंत नारायण मंदिर सहित नौ नारायण मंदिरों में शुमार मंदिरों पर दर्शन-पूजन के लिये भीड़ लगी हुई है। इसके अलावा धार्मिक नगरी में विभिन्न मंदिरों में भी दर्शन पूजन के लिये उत्साह बना हुआ है। प्रमुख रूप से ज्योतिर्लिंग महाकालेश्वर, हरसिद्धि, गोपाल मंदिर आदि पर भीड़ बनी हुई थी।

ऑटो और मैजिक से यात्रा
शहर में 84 महादेव, सप्त सागर तथा 9 नारायण मंदिर यात्रा के लिये श्रद्धालु ऑटो, मैजिक गाडिय़ों से पहुंच रहे हैं। पूरे अधिकमास में ऑटो व मैजिक वालों को अच्छे व्यवसाय की उम्मीद है।

पंडितों की व्यस्तता बढ़ी
अधिकमास में सप्त सागर, चौरासी महादेव और नौ नारायण दर्शन जैसे पुण्यदायी कार्यों को सम्पन्न कराने के लिये पंडित, पुरोहितों की व्यस्तता बढ़ गई है। जगह-जगह धार्मिक कथा, भागवत कथा आदि के आयोजन भी जारी हैं।