पूरे जीवन में इन किस्म के लोगों से जरूर मिलेंगे आप

स्वभाव और आचार:- इन्हीं लोगों में से कुछ लोग बहुत खास होते हैं जो हमेशा के लिए हमारी जिन्दगी में शामिल हो जाते हैं। कुछ हैलो-हाय का संबंध रखते हैं तो कुछ ऐसे होते हैं जिनके विषय में हम ये सोचते हैं कि ‘भगवान करे दोबारा कभी इसकी शक्ल ना दिखे’। जिसका कारण बनता है उनका स्वभाव, बोलने का तरीका और व्यवहार।

स्वार्थी लोग:- आप इसे अपनी खुशनसीबी कह लीजिए या बदकिस्मती लेकिन उम्र के किसी ना किसी पड़ाव पर प्रत्येक व्यक्ति की मुलाकात एक ऐसे शख्स से होती है जिसके भीतर स्वार्थ की भावना कूट-कूटकर भरी होती है। ये लोग बड़े ही अजीब किस्म के प्राणी होते हैं जो अपने चहेतों को भी तभी याद करते हैं जब उन्हें उनकी जरूरत होती है। आपको इनकी जरूरत है तो ये वहां उपस्थित नहीं होंगे लेकिन अपने कृत्यों को जानते-बूझते भी ये लोग आपको अपनी जरूरत के समय अवश्य याद करेंगे।

सबसे घातक:- इन लोगों के जीवन का बस एक ही फंडा होता है, “सबसे पहले मैं”। ये लोग अपना फायदा या नुकसान देखकर ही लोगों से दोस्ती करते हैं। अच्छे दोस्त बन पाएं या ना बन पाएं लेकिन समय आने पर सबसे बड़े दुश्मन साबित हो सकते हैं। अगर आपको अपने जीवन में प्रसन्न और टेंशन फ्री रहना है तो ऐसे लोगों से दूरी बनाकर रखें।

स्वार्थ से बहुत दूर:- वैसे हम पुख्ता तौर पर यह नहीं कह सकते कि प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में ऐसा एंगल आता ही है जो स्वार्थ की भावना से दूर है, क्योंकि धरती पर इस प्रजाति के लोगों की संख्या बहुत कम है। लेकिन अगर आपके पास ऐसा कोई दोस्त या रिश्तेदार है तो आप खुद को लकी मान सकते हैं।

मैं हूं ना:- ये कुछ उस टाइप के लोग होते हैं जो हर बात पर एक ही डायलॉग मारते हैं, “मैं हूं ना”। सच मानिए ये आपकी हर मुसीबत में साथ भी रहते हैं। ऐसे लोगों के साथ बस एक ही प्रॉब्लम होती है कि इनके अंदर तो स्वार्थ की भावना नहीं होती लेकिन इनके जीवन में बहुत से स्वार्थी लोग आते हैं। पर ये दिल के बहुत कोमल होते हैं, स्वार्थी लोगों के धोखे से भी इन्हें ज्यादा फर्क नहीं पड़ता।

चंचल या बातूनी:- ये लोग कभी-कभी गॉड गिफ्ट साबित होते हैं तो कभी कभार ऐसा मन करता है कि इनका सिर फोड़ दिया जाए। आप बहुत ही गंभीर विषय पर चर्चा कर रहे हैं और पीछे से किसी के लगातार बोलने और हंसने की आवाज आ रही है। जिन लोगों का हम यहां जिक्र करने जा रहे हैं वे कुछ ऐसे ही है जिनका बोले बिना काम नहीं चलता। गंभीरता तो इनके लिए किसी दूसरे ग्रह का शब्द है। इन लोगों के साथ दोस्ती तो अच्छी है पर काम के लिए ये बिल्कुल सही नहीं हैं क्योंकि कभी सीरियस ही नहीं होते।

लापरवाह:- ये लोग बहुत अच्छे दोस्त और मजेदार कंपनी साबित होते हैं लेकिन काम के मामले में लापरवाह होने की वजह से इनसे जल्दी काम नहीं निकलवाया जा सकता।

सबसे खतरनाक श्रेणी:-  इस श्रेणी के लोगों के ना तो राक्षस जैसे दांत होते हैं और ना ही बड़े-बड़े नाखून, लेकिन फिर भी ये बहुत खतरनाक होते हैं। पीठ पीछे छुरा घोंपने जैसी कहावत तो आपने सुनी ही होगी। ये इसी टाइप के लोग हैं जो आपके सामने तो आपके हमदर्द होने का दंभ भरते है और मौका मिलते ही आपकी जड़ें काटने लगते हैं।

धोखेबाज:- ये लोग धोखेबाज और बहुत बड़े ड्रामेबाज होते हैं। दोस्तों और आपके बीच गलतफहमियां पैदा करनी हों या फिर ऑफिस में आपके बारे में गलत अफवाहें उड़ानी हों, ये सभी काम इस श्रेणी में शामिल लोग अच्छी तरह जानते और समझते हैं।

जलन की भावना:- इनके अंदर हर किसी को लेकर जलन की भावना विद्यमान रहती है। शायद ऐसा कोई व्यक्ति नहीं है जिसकी सफलता इन्हें दुख ना पहुंचाती हो। ये लोग किसी को भी अपना नहीं बना सकते और ना ही किसी के अपने बन सकते हैं। इन्हें जितनी जल्दी पहचान लिया जाए उतना अच्छा है।

गंभीरता की मिसाल:- आप जरूर किसी ना किसी ऐसे व्यक्ति से मिले होंगे जो अपने काम को लेकर इतना गंभीर रहता है कि कोई हद नहीं। उसके गोल्स, उद्देश्य इतने क्लीयर हैं कि आपको खुद पर शर्म आने लगती है। ऐसे लोगों के जीवन में हंसी-मजाक का कोई खास रोल नहीं होता। पार्टियां करना या घूमना-फिरना भी इनका शौक नहीं है।

आत्महत्या का विचार:- अगर कभी इन्हें सफलता ना मिले तो ये लोग आत्महत्या तक करने की सोचने लगते हैं, कुछ ऐसे भी होते हैं जो जुगाड़ के सहारे सफलता हासिल करने की सोचते हैं। अगर आपकी लाइफ में भी ऐसा कोई है तो प्लीज जाइए और उन्हें बताइए कि जीवन में फन और मस्ती भी बहुत जरूरी है।

आमना-सामना:- अब आप बताइए कि उपरोक्त में से किस-किस टाइप के लोगों से अब तक आपका आमना-सामना हो चुका है।