बच्चियों से रेप करने पर मिले मौत की सजा, तैयार हो रहा प्रस्ताव: मेनका गांधी

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने आज कहा कि उनका विभाग बाल यौन अपराध विरोधी कानून पॉक्सो में संशोधन के लिए प्रस्ताव तैयार कर रहा है ताकि 12 साल से कम उम्र के बच्चे – बच्चियों के साथ दुष्कर्म के मामलों में मौत की सजा का प्रावधान किया जा सके. मेनका ने मीडिया को बताया कि इस संदर्भ में कैबिनेट नोट तैयार करने के बाद उनका विभाग विभिन्न मंत्रालयों को भेजेगा ताकि उनकी राय ली जा सके.

मेनका गांधी ने कहा, ‘‘मेरा मंत्रालय पॉक्सो में संशोधन का प्रयास करेगा ताकि 12 साल के कम उम्र के बच्चे – बच्चियों के साथ दुष्कर्म के मामलों के दोषियों के लिए मौत की सजा का प्रावधान किया जा सके.’’ उन्होंने कहा कि कड़ी सजा का प्रावधान ऐसे जघन्य मामलों में प्रतिरोधक का काम करेगा.मेनका की यह टिप्पणी कठुआ में आठ साल की बच्ची से बलात्कार और हत्या के मामले को लेकर उपजे जनाक्रोश के बाद आया है. उन्होंने कहा कि किशोरों के खिलाफ अपराधों के विरुद्ध कानून को 2015 में सख्त बनाए जाने का अपेक्षित परिणाम देखने को मिला है.

10 जनवरी को कठुआ बकरवाल समुदाय के एक परिवार की आठ साल की बच्ची अचानक गायब हो गई थी. उसके लापता होने की रिपोर्ट पुलिस में दर्ज करवाई गई थी. चार्जशीट के मुताबिक, आरोपियों ने घोड़े ढूंढने में मदद करने के बहाने लड़की को अगवा कर लिया था. बच्ची को देवीस्थान में बंधक बनाए रखा गया था. उसे बेहोश रखने के लिए नशे की दवाइयां दी गईं. 17 जनवरी को झाड़ियों में बच्ची का शव पाया गया था. मेडिकल जांच में गैंगरेप की पुष्टी हुई. बच्ची का अपहरण कर उसके साथ दुष्कर्म करने के बाद उसकी हत्या करने के मामले में मुख्य आरोपी सांजी राम समेत आठ लोगों का आरोपी बनाते हुए उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है. कठुआ गैंगरेप केस: पढ़ें आरोपियों ने कैसे दिया पूरी वारदात को अंजाम