भगवान राम के ये मैनेजमेंट सूत्र दिखाते हैं सफलता की राह

जीवन में सफल होने के लिए जितना कठिन परिश्रम और गहन लगन की जरूरत होती है उतना ही चीजों का बेहतर प्रबंधन भी जरूरी होता है। किसी भी काम को करने में आपको सफलता तभी मिलेगी जब आपको पहले से पता होगा कि उस काम को कब, कैसे करना है। इसके साथ ही आपको यह भी पता होना जरूरी है जिस काम को आप करने जा रहे हैं उसके लिए किन-किन साधनों की जरूरत होगी। जब आप इन सभी चीजों को समझ लेगें तो आपका कोई भी कार्य अपने आप सफल हो जाएगा।

भगवान राम ने अपने जीवन में जो कुछ भी एक मानव के रूप में किया उन्हें हर काम में सफलता प्राप्त हुई। यहां भगवान राम कुछ उन कार्यप्रबंधन के लिए जरूरी गुणों के बारे में बता रहे जिन्हें अपनाकर जीवन को सफल बनाया जा सकता है।

किसी भी लक्ष्य को पाने के लिए मूल्य, रणनीति, विश्वास, प्रोत्साहन, श्रेय और पारदर्शिता की जरूरत होती है जो कि भगवान राम में ये सभी गुण सहज ही थे। किसी कामयाब प्रबंधक में ये सभी गुण होना जरूरी है। धीर, गंभीर और शांत स्वभाव में कामयाबी की झलक देखी जा सकती है।

भगवान राम ने अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए पिता की आज्ञा मानी, केवट और सबरी से अनुकूल व्यवहार किया ताकि सबको समानता का अनुभव हो सके। उन्होंने बंदर भालुओं की मदद से समुद में विशाल सेतु का निर्माण कराया जो कि एक बेहतरीन रणनीति का उदाहरण है। इतना ही नहीं उन्होंने शक्तिशाली राक्षस रावण का नाश किया जो कि रणनीति, कूटनीति और पराक्रम का सर्वोत्तम उदाहरण है।