भजन मंडली में अन्य लोगों को शामिल न किया जाये

उज्जैन। श्रावण-भादौ मास में निकलने वाली भगवान महाकाल की सवारियों के क्रम में प्रमुख एवं शाही सवारी 21 अगस्त को निकाली जायेगी। शाही सवारी में परम्परागत भजन मंडलियां शामिल होती हैं। इन भजन मंडलियों के पदाधिकारियों की बैठक गुरुवार को शाम 4 बजे महाकाल प्रवचन हॉल में सम्पन्न हुई।
बैठक अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक विनायक शर्मा ने ली। उन्होंने भजन मण्डलियों के पदाधिकारियों को निर्देश दिये कि महाकाल की सवारी में शामिल होने के लिये निर्धारित समय में अनिवार्य रूप से पहुंचें और अनावश्यक अन्य लोगों को शामिल न किया जाये। प्रशासन की व्यवस्था में सहयोग करें और दिये गये निर्देशों का पालन किया जाना सुनिश्चित करें। भजन मंडली में सदस्य ही शामिल हों। सदस्य अन्य लोगों को मंडली में शामिल न करें।

सवारी में परम्परागत भजन मंडलियों को ही शामिल किया जायेगा।बैठक में निर्देश दिये कि भजन मंडली में शामिल होने वाले कोई भी सदस्य अमर्यादित व्यवहार नहीं करें और किसी भी प्रकार का राजनैतिक या व्यावसायिक या व्यक्तिगत प्रचार नहीं करें और न ही इस संबंध में बैनर का उपयोग करें। सवारी में किसी भी प्रकार के नशीले पदार्थ का सेवन न करें। शाही सवारी में शामिल होने वाली भजन मंडली के पदाधिकारियों के द्वारा गुलाल नहीं उड़ाई जाये। भजन मंडली के प्रत्येक सदस्य प्रशासन के अधिकारी-कर्मचारी आदि के निर्देशों का अनिवार्यत: पालन करना सुनिश्चित करें।

आदेशों का पालन नहीं करने एवं अमर्यादित व्यवहार करने पर संबंधित भजन मंडली संस्था को आगामी वर्ष के लिये प्रतिबंधित कर दिया जायेगा। भजन मंडली ठेले पर किसी प्रकार का फोटो, मुखौटा, त्रिशूल या धार्मिक प्रतीक चिन्ह लेकर नहीं चलेंगी। बैठक में एएसपी विनायक शर्मा ने उपस्थित समस्त भजन मंडलियों के पदाधिकारियों को सवारी में शामिल होने के लिये अन्य आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। बैठक में पुलिस प्रशासन के अधिकारी, मंदिर प्रबंध समिति के सहायक प्रशासनिक अधिकारीद्वय दिलीप गरूड़ व एसपी दीक्षित सहित भजन मंडलियों के पदाधिकारी आदि उपस्थित थे।