भय्यू महाराज की अस्थियो को बेटी ने नर्मदा नदी में प्रवाहित किया

भमोरी स्थित मुक्तिधाम पर गुरुवार सुबह बेटी ने परिजनों के साथ भय्यू महाराज का अस्थि संचय किया। अस्थि संचय के बाद सभी महेश्वर के लिए रवाना हुए, जहां नर्मदा नदी में अस्थियों को प्रवाहित किया गया। करीबियों के अनुसार अस्थियों को देश की सभी प्रमुख नदियों में भी प्रवाहित किया जाएगा। बता दें, मंगलवार को संत भय्यू महाराज ने अपने घर पर खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। बुधवार को बेटी कुहू ने उन्हें मुखाग्नि दी थी।

सुबह बेटी कुहूू परिजन और सेवादारों के साथ मुक्तिधाम पहुंचीं। यहां मंत्रोचार के बीच पंडित ने अस्थि संचय करवाया। इसके बाद चबूतरे को गोबर से लिपवाकर फूल अर्पित कर भोग लगाया गया। यहां से बेटी कुहू अस्थियों को लेकर महेश्वर के लिए रवाना हुई, जहां नर्मदा नदी में अस्थियों को प्रवाहित किया गया। नर्मदा नदी के अलावा अस्थियों को देश की अन्य प्रमुख नदियों में भी 10 दिन में प्रवाहित किया जाएगा।

करीबियों के अनुसार भय्यू महाराज की दो समाधि बनाई जाएगी। एक उनके पैतृक निवास शुजालपुर में, जबकि दूसरी इंदौर स्थित सूर्योदय आश्रम में। इसके अलावा अंतिम संस्कार के लिए बनाए गए अस्थाई चबूतरे की ईंटों को उनके सभी आश्रमों में याद स्वरूप लगाया जाएगा।

भय्यू महाराज की श्रद्धांजलि सभा गुरुवार शाम 5 स्कीम नंबर 74 स्थित ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर में रखी गई है। सभा में कई नेता और साधु संत शामिल हो सकते हैं।