भय्यू महाराज नहीं लेंगे मंत्री पद, कहा- नर्मदा की सेवा सामान्य व्यक्ति की तरह करूंगा

इंदौर। मध्यप्रदेश सरकार द्वारा 5 संतों को राज्यमंत्री का दर्जा देने का विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस बीच आध्यात्मिक संत भय्यू महाराज ने भी बातों-बातों में इस पद को स्वीकार करने से इनकार कर दिया। उनका कहना है नर्मदा हमारी आस्था, श्रद्धा और संस्कार का प्रतीक है। नर्मदा की सेवा समाज की सेवा है।

‘नईदुनिया’ से बातचीत में उन्होंने कहा जबसे उन्हें राज्यमंत्री का पद देने की सूचना मिली तब से उन्होंने इस पद का ना तो उपयोग किया और ना ही उपभोग। उन्होंने कहा मैंने मानवता की सेवा का संकल्प लिया है। उससे बड़ा कोई पद नहीं है। जो पद मन, बुद्धि को स्पर्श न करे उसका कोई अर्थ नहीं है। धार्मिक गुरुओं को पद दिए जाने के पीछे लोगों के अलग-अलग विचार हैं। मेरा मत है कि मुझे यह सम्मान देने के पीछे सरकार की मंशा मेरे समाजसेवा के कार्य को सम्मान देने की रही होगी। भय्यू महाराज के निजी सहायक संजय यादव ने भी स्पष्ट किया कि भय्यू महाराज ने राज्यमंत्री का पद स्वीकारने से इनकार कर दिया है।