महाकाल मंदिर के सामने देर रात चाकू चले

उज्जैन। बीती रात महाकाल मंदिर के सामने फूल प्रसाद बेचने के विवाद को लेकर आधा दर्जन से अधिक बदमाशों ने एक युवक पर प्राणघातक हमला कर दिया। गंभीर घायल को इंदौर रैफर किया गया है वहीं महाकाल पुलिस ने बदमाशों में से एक युवक को हिरासत में लिया है।
पुलिस ने बताया कि अमल पिता अशोक पंवार 19 वर्ष निवासी गणेश कालोनी जयसिंहपुरा अपने दोस्त रितेश, जुगल के साथ बीती रात महाकालेश्वर शिखर दर्शन को गया था। उक्त युवक महाकाल मंदिर के बाहर हार-फूल प्रसाद की दुकान भी संचालित करते हैं।

यहीं पर मोनू राव निवासी पटनी बाजार, कालू यादव निवासी महाकाल घाटी, अमन उर्फ ब्रम्हा निवासी कार्तिक चौक, रवि वर्मा निवासी महाकाल घाटी, रोहन सूर्यवंशी निवासी गणेश कालोनी, गणेश कहार निवासी कहारवाड़ी, नीकू उर्फ नीलेश पिता कुंजीलाल निवासी गुदरी सब्जी मंडी ने पाईप, लट्ठ, सरिये और चाकू से उक्त तीनों युवकों पर प्राणघातक हमला किया। इनमें से रितेश पेट में चाकू के गंभीर घाव लगने से उसे इंदौर रैफर किया गया है। पुलिस के अनुसार बदमाशों के खिलाफ प्राणघातक हमले का प्रकरण दर्ज करने के साथ ही नीकू उर्फ निलेश को हिरासत में लिया गया है जबकि आधा दर्जन बदमाशों की तलाश जारी है।

पूर्व में हो चुकी है हत्या
महाकाल मंदिर के बाहर फूल, प्रसाद बेचने के लिये दुकानदारों के बीच होड़ लगती है। स्थिति यह है कि मंदिर के बाहर पहुंचने वाले दर्शनार्थियों को फूल बेचने वालों के युवक घेरकर अपनी दुकान से सामान खरीदने की बात कहते हैं साथ ही कहा जाता है कि बैग, चप्पल-जूते आदि रखने की व्यवस्था भी है। मंदिर के बाहर एक दर्जन से अधिक युवक झुंड बनाकर खड़े देखे जा सकते हैं। इसी चौराहे पर पुलिसकर्मियों की ड्यूटी रहती है लेकिन कोई भी इन युवकों को नहीं हटाता। पूर्व में फूल प्रसाद बेचने के विवाद में एक युवक की हत्या भी हो चुकी है, जबकि मारपीट और प्राणघातक हमले जैसे मामले यहां आये दिन होते हैं। थाने से मात्र 100 मीटर की दूरी पर दुकानदारों के आये दिन होने वाले विवाद को पुलिसकर्मी रोकने में असफल साबित हो रहे हैं।