मुख्यमंत्री चौहान की नानाखेड़ा पर सभा

उज्जैन। संभागभर से श्रमिकों को मजदूर डायरी प्रदान करने तथा तेंदूपत्ता संग्राहकों को लाभ प्रदान करने के लिए नानाखेड़ा स्टेडियम बुलाया गया। मुख्यमंत्री के भाषण के बाद इन्हें डायरी प्रदान की जाएगी।

नानाखेड़ा स्टेडियम में सुबह से संभाग भर के जिलों व अंचलों से मजदूरों, श्रमिकों, तेंदूपत्ता संग्राहकों को लाभ प्रदान करने के लिए मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान खुद संबोधित करेंगे। भाजपा ने भी इस कार्यक्रम के लिए अपनी ताकत झोंक दी है तथा विकासखंड वार हिसाब-किताब रखा जा रहा है कि किस विकासखंड से कितने लोग किसकी जिम्मेदारी में आए हैं। इससे पहले भाजपा ने बैठक लेकर मुख्यमंत्री के कार्यक्रम के लिए अपने विधायकों, मंडल अध्यक्षों को जवाबदारी दी थी।

इधर कार्यक्रम में भाग लेने आए नीमच के घनश्याम परिहार ने बताया कि रात से ही हमें उज्जैन आने के लिए तैयार रहने को कहा था। सुबह 5 बजे हम साथियों के साथ कार्यक्रम के लिए रवाना हो गए और सुबह 8 बजे यहां पहुंचे हैं। यहां पर मजदूर डायरी प्रदान की जाएगी। हम 5-6 वर्षों से मजदूर डायरी के लाभ से वंचित है। यही बात शाजापुर जिले आई देवकीबाई ने कहा कि मजदूर डायरी के साथ विभिन्न सुविधाएं देने की बात कही गई हैं और कहा गया कि मुख्यमंत्री ने बुलाया तो हम बस में बैठकर यहां आए हैं। इधर कार्यक्रम स्थल पर कलेक्टर मनीषङ्क्षसह तथा नवागत नगर निगम आयुक्त प्रतिभा पाल भी मौके पर डटी हुई थी। विभागों के स्टॉल लगे

नानाखेड़ा स्टेडियम पर शासन की विभिन्न योजनाओं के प्रदर्शन के लिए विभागवार स्टॉल लगाए गए हैं। जहां कार्यक्रम में आने वाले लोगों को बताया जा रहा है कि वे किस तरह से शासन की योजनाओं का लाभ ले सकते हैं।

रोटी-पानी की चिंता
कार्यक्रम में आए मजदूरों, श्रमिकों तथा तेंदूपत्ता संग्राहकों को चिंता यह है कि कार्यक्रम में नेता और अधिकारी ले तो आए हैं लेकिन रोटी-पानी का क्या होगा। मुख्यमंत्री कब आएंगे, घर कब पहुंचेंगे यही सब बातें हो रही थी।

इधर गर्मी से बेहाल
इन दिनों नोतपा चल रहा है तथा दूर-दूर से आने वाले श्रमिकों, मजदूरों के गर्मी से बुरे हाल हैं। हालांकि कार्यक्रम स्थल पर 10 हजार से अधिक लोगों के बैठने के इंतजाम किए गए हैं लेकिन लोग पसीने व गर्मी से जुझते दिखाई दिए।