युवतियों को दी संस्कृति के अनुसरण की सीख

उज्जैन। सरस्वती शिशु मंदिर ऋषिनगर में चल रहे दुर्गावाहिनी शौर्य प्रशिक्षण वर्ग में युवतियों को संस्कृति का अनुसरण करने की सीख के साथ मातृभूमि से प्रेम का पाठ पढ़ाया गया। साथ ही सामाजिक क्षेत्र में काम करने पर आने वाली परेशानियों से निपटने के गुर भी सिखाये गये।
दुर्गावाहिनी शौर्य प्रशिक्षण वर्ग में क्षेत्रीय संगठन मंत्री दिनेश उपाध्याय ने हिंदू संस्कृति की विशेषताएं विषय पर युवतियों को मार्गदर्शन दिया। उन्होंने कहा हमें हमारी संस्कृति का अनुसरण करना चाहिये।

जब स्वामी विवेकानंद शिकागो धर्मसभा से लौटे तो भारत में बहुत सारे लोग उनके स्वागत में खड़े थे परंतु उन्होंने भारत की भूमि पर अपना कदम रखते ही यहां की मिट्टी अपने शरीर पर लगाई जब लोगों ने पूछा कि आप ऐसा क्यों कर रहे हो तो उन्होंने कहा में विदेश में अपनी मातृभूमि से दूर था इसलिए मातृभूमि से मिल रहा हूं। ये मेरा मेरी मातृभूमि के प्रति प्रेम है। द्वितीय सत्र में विहिप के अंतरराष्ट्रीय संगठन महामंत्री विनायक राव देशपांडे ने भी संबोधित किया। जिला अध्यक्ष अशोक जैन, प्रांत की दुर्गावाहिनी संयोजिका पिंकी पंवार, वर्गाधिकारी अपेक्षा शुक्ला सहित अन्य मंचासीन थे। संचालन शोभा शर्मा ने किया।