येदियुरप्पा ने तीसरी बार ली मुख्यमंत्री पद की शपथ

कर्नाटक के राज्यपाल वजूभाई वाला ने भाजपा नेता बीएस येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री के पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। येदियुरप्पा तीसरी बार मुख्यमंत्री की कुर्सी संभाल रहे हैं। वे कर्नाटक के 25वें मुख्यमंत्री बन गए हैं। येदियुरप्पा सरकार को 15 दिनों के अंदर विधानसभा में विश्वास मत हासिल करना होगा। आज सिर्फ येदियुरप्पा ने ही शपथ ली है। विधानसभा में सरकार विश्वासत मत हासिल करने के बाद मंत्रिमंडल को शपथ दिलाएगी।

येदियुरप्पा के स्वागत के लिए राजभवन के बाहर भव्य तैयारियां की गई थी। ढोल-नगाड़ों से पूरा माहौल संगीतमय हो गया था। मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने से पहले येदियुरप्पा ने मंदिर में पूजा-अर्चना की। भाजपा कार्यकर्ताओं ने राजभवन के बाहर वंदे मातरम और मोदी-मोदी के नारे लगाए।

राज भवन पहुंचे केन्द्रीय मंत्री अंनत कुमार ने कहा, मुझे लगता है कि सभी राज्यपाल के फैसले के साथ हैं। हमें समर्थन मिलेगा, हम विधानसभा के अंदर बहुमत साबित कर लेंगे।

वहीं राहुल गांधी ने कहा, ‘भाजपा कर्नाटक में सरकार बनाने को लेकर तर्कहीन आग्रह कर रही है जबकि उसके पास पर्याप्त संख्या नहीं है, यह हमारे संविधान का मजाक बनाना है। इस सुबह जहां भाजपा अपनी खोखली जीत का जश्न मना रही है वहीं भारत लोकतंत्र की हार का शोक मनाएगा।’

आधी रात को सुप्रीम कोर्ट में हुई सुनवाई

बुधवार को कांग्रेस और जेडीएस ने येदियुरप्पा के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेने पर रोक लगाने के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। रात 2 बजे हुई सुनवाई में कोर्ट ने याचिका को खारिज करते हुए कहा कि राज्यपाल के फैसले पर रोक नहीं लगाई जा सकती है। कोर्ट ने भाजपा से विधायकों की सूची मांगी है। साथ ही राज्यपाल को सौंपा गया समर्थन पत्र भी मांगा है। इस मामले की अगली सुनवाई शुक्रवार सुबह 10.30 बजे होगी।

विधानसभा चुनाव में जहां भाजपा 104 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है वहीं चुनाव के बाद बने कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के 116 विधायक हैं। इस गठबंधन ने भी राज्यपाल के पास सरकार बनाने का दावा पेश किया था। भाजपा को सरकार बनाने का न्यौता देने पर कांग्रेस ने राज्यपाल पर भाजपा की कठपुतली होने का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा कि वह पार्टी को बहुमत का जुगाड़ करने की इजाजत दे रहे हैं।