रात 9 बजे तक सिक्युरिटी गार्ड से थाने में पूछताछ

दो जगह चैकिंग के बाद कैसे निकले श्रद्धालु

भस्मारती दर्शन के लिये श्रद्धालुओं से रुपये लेने के मामले में पुलिस द्वारा रात 9 बजे तक सिक्युरिटी गार्ड से पूछताछ की गई। बाद में उसे मंदिर प्रबंधन समिति के अधिकारी थाने से छुड़ाकर ले गए।

दो दिनों पूर्व उत्तरप्रदेश से महाकाल दर्शन करने आए श्रद्धालुओं को भस्मारती दर्शन कराने के नाम पर दो हजार रुपये लेने के मामले में भस्मारती प्रभारी अनुराग चौबे द्वारा महाकाल थाने पर शिकायती आवेदन दिया गया था। मामले में पुलिस ने जांच शुरू करते हुए सुरक्षा एजेंसी के कर्मचारी को थाने में बैठाकर रात 9 बजे तक पूछताछ की गई।

जिसके बाद मंदिर प्रबंध समिति के अधिकारी ही सिक्युरिटी गार्ड को थाने से छुड़ाकर ले गये। मंदिर सूत्रों ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज में होमगार्ड के जवान कपड़े, लौटा लेते हुए श्रद्धालुओं के पास दिखाई दे रहे हैं, लेकिन रुपयों के लेन-देन की स्थिति स्पष्ट नहीं है। भस्मारती दर्शन व्यवस्था मंदिर प्रबंध समिति के हाथ में है और समिति के कर्मचारी ही प्रवेश की अनुमति को चैक करते हैं।

होमगार्ड जवानों का काम सिर्फ सुरक्षा का होता है। भस्मारती द्वार पर पहले मंदिर समिति के कर्मचारी प्रवेश अनुमति के कागज चैक करते हैं, उसके बाद गेट से प्रवेश कर श्रद्धालु यहां लेपटाप लेकर बैठे कर्मचारी के पास पहुंचते हैं।

यहां अनुमति की पर्ची पर अंकित कोड से व्यक्तियों की पहचान होने के बाद भस्मारती के लिये प्रवेश दिया जाता है। ऐसे में बिना अनुमति के दोनों श्रद्धालु गर्भगृह तक कैसे पहुंचे इसकी जांच पुलिस द्वारा की जा रही है।