विद्यार्थियों ने पूछा- प्रदेश में सांपों की कितनी प्रजातियां

उज्जैन। लोकमान्य तिलक विज्ञान एवं वाणिज्य महाविद्यालय के विद्यार्थियों ने सर्प अनुसंधान संगठन के निदेशक एवं सर्प विशेषज्ञ डॉ. मुकेश इंगले से पूछा सर अपने प्रदेश में सांपों की कितनी प्रजातियां हंै।

इस पर उन्होंने बताया हमारे प्रदेश में सांपों की 40 से अधिक प्रजातियां पाई जाती हंै। बुधवार को कॉलेज के विद्यार्थियों और शिक्षकों ने बसंत बिहार कॉलोनी स्थित सरिसर्प संरक्षण एवं शोध केंद्र का दौरा कर सांपों के बारे में जानकारी ली। श्री इंगले ने बताया प्रदेश में सांपों की लगभग 40 प्रजातियां पाई जाती हैं।

इनमें से केवल 4 प्रजाति के सांप ही मानव के लिए खतरनाक हैं, अन्य से कोई खतरा नहीं। समाज में सांपों को लेकर कई भ्रांतियां और अंधविश्वास हैं जिन्हें दूर किया जाना चाहिए।

कार्यक्रम का उद्देश्य शिक्षकों-विद्यार्थियों को सांपों के संरक्षण, उनके महत्व, सर्पदंश के प्राथमिक इलाज, सांपों से जुड़ी कई भ्रांतियों का निवारण करना था। कार्यक्रम में 22 विद्यार्थियों एवं 3 फैकल्टी मेंबर्स डॉ. अंजलि शाह,, डॉ. जया परिहार व सोनल गोधा ने भाग लिया।