शादियों मेंं वारदात करने वालों को तलाशने राजगढ़ जाएगी पुलिस

उज्जैन। शादियों में लगातार बैग चोरी करने वाले संभवत: सांसी गिरोह के सदस्य है। पुष्टि करने के लिए पुलिस होटलों से मिले फुटेज और पूर्व में पकड़ाए चोरों के फोटो का मिलान करेगी। वहीं पक्के सबूत मिलने पर जल्द ही दल राजगढ़ जाएगा।

आश्रय होटल में 7 जनवरी को जावरा स्थित गांधी नगर निवासी एसएफ के एसआई महेंद्र प्रताप सिंह चावड़ा की पत्नी का बैग चोरी हो गया था। बैग में २ लाख से अधिक के जेवरात व हजारों रुपए रखे हुए थे। मामले में पुलिस ने होटल के सीसी टीवी फुटेज खंगाले, जिसमें एक संदिग्ध बालक दिखा है।

पुलिस का मानना है कि कथित बाल चोर राजगढ़ स्थित कडिय़ा गांव के सांसी समाज का हो सकता है। याद रहे करीब 15 दिन पहले मेघदूत होटल में महिला एसआई पलसीकर की शादी से ३ लाख रुपए से भरा बैग चोरी हो गया था। वहीं सात दिन पहले शांति पैलेस होटल संचालक शेखर श्रीवास की बेटी की शादी से भी 15 लाख के जेवरात व नकदी से भरा बैग चोरी हुआ था। तीनों वारदातों में बाल चोरों की ही भूमिका सामने आई है।

ऐसे करते वारदात
राजगढ़ के पास ग्राम कडिय़ा में सांसी समाज के लोग रहते हैं। इस समाज के अधिकांश लोग अपराध पर ही जीवन गुजर बसर करते हंै, इनमें चोरी मुख्य है। यहां बच्चों को चोरी के लिए ट्रेंड करते हैं। शातिर अपराधी बच्चों को लेकर बड़े शहरों में जाते हैं।

उन्हें अच्छे कपड़े पहना कर होटलों में हो रहे समारोह में भेजते हैं। बच्चे वहां मौका देखकर नकदी, जेवरात व उपहारों में मिले लिफाफे के बैग उड़ा देते हैं। आयोजन स्थल के बाहर मौजूद बड़े अपराधी इनसे बेग लेकर रफूचक्कर हो जाते हैं।