समस्याओं के बारे में सोचें नहीं, बस आगे बढ़ें

एक प्रोफेसर एक क्लास में जाते हैं। वहां वो अपने साथ एक गिलास लेकर जाते हैं। गिलास में पानी भरकर वो इसे हाथों से पकड़कर ऊपर उठा लेते हैं और छात्रों से पूछते हैं कि इसका वजन कितना होगा? कोई छात्र 50 ग्राम, 100 ग्राम अलग-अलग जवाब देते हैं।

प्रोफेसर कहते हैं कि मुझे इसका वजन बिल्कुल नहीं पता। इसे बाद वो छात्रों से पूछते हैं कि क्या होगा इगर मैं इसे पूरे दिन हाथ में पकड़े हुए ही बैठे रहूं। एक छात्र बोला, आपके हाथ दर्द कर सकते हैं, दूसरा बोला, हाथ सुन्न हो सकते हैं, तीसरा बोला, आपको लकवा भी मार सकता है। एक छात्र बोला, आपको हॉस्पिटल में एडमिट कराना पड़ सकता है। विचारक बोले, क्या इससे ग्लिास का वजन कम हो जाएगा।

तब प्रोफेसर ने कहा कि तो अब मुझे क्या करना चाहिए। छात्र बोले इसे नीचे रख दीजिए। प्रोफेसर बोले, बिल्कुल सही। जीवन में समस्याएं भी ऐसी ही हैं। अगर सोचते रहेंगे तो आपको लकवे का शिकार बना देंगी और कुछ भी करने लायक नहीं रहेंगे।