सरकारें बहुत कुछ कर सकती हैं, सबकुछ नहीं:RSS प्रमुख भागवत

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने गुरुवार को राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) संस्थापक डॉ. हेडगेवार के जन्मस्थल पर गए और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दौरान उनके साथ संघ प्रमुख मोहन भागवत भी मौजूद थे। पूर्व राष्ट्रपति संघ के कार्यक्रम में शामिल होने नागपुर पहुंचे हैं। थोड़ी देर में वह संघ मुख्यालय में भाषण भी देंगे।  संघ समाज को संगठित करता है। भारत में जन्म लेने वाला हर व्यक्ति भारतीय है। कहा कि एक भारतयी किसी दूसरे के लिए पराया कैसे हो सकता है।

संघ केवल हिंदू के लिए नहीं सबके लिए काम करता है। सकरारें बहुत कुछ कर सकती है मगर सबकुछ नहीं कर सकती। हमने सहज रूप से उन्हें आमंत्रण दिया और उन्होंने हमारा स्नेह पहचान कर इसपर सहमति दी. हमने प्रणब मुखर्जी को न्योता दिया था और उन्होंने इसे स्वीकार किया। प्रणब और संघ एक दूसरे के विचारों को जानते हैं, विचारों का आदान-प्रदान भारत की परंपरा है: