साक्षात्कार में कहा…आंबेडकर द्वारा दिए गए संविधान के सपनों को हम पूरा करेंगे…आरक्षण हर हाल में रहेगा कायम : मोदी

नईदिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आरक्षण के खत्म होने की रिपोर्ट को सिरे से नकारते हुए साफ किया कि आरक्षण कायम रहेगा। शनिवार को दिए साक्षात्कार में प्रधानमंत्री मोदी ने बाबा भीमराव आंबेडकर द्वारा दिए गए संविधान के सपनों को हम पूरा करेंगे।
प्रधानमंत्री ने कहा कि डॉ. आंबेडकर ने संविधान द्वारा हमारे उद्देश्य और सपनों को पूरा किया है। इसलिए यह हम सभी की जिम्मेदारी है कि संविधान में दिए महत्वपूर्ण व्यवस्था आरक्षण द्वारा इसे पूरा किया जाए। उन्होंने साफ किया कि आरक्षण हर हाल में कायम रहेगा, इसमें किसी भी तरह का शंका या संदेह किसी को नहीं होना चाहिए। बाबा साहब के सशक्त भारत के सपने को साकार करने के लिए सरकार पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। हमारी सरकार का मूल मंत्र ‘सबका साथ सबका विकासÓ है जिसके माध्यम से हम गरीब, पीडि़त, शोषित, दलित, आदिवासी और ओबीसी के अधिकारों की रक्षा करना है।

भाजपा के अधिकांश सांसद और विधायक एससी, एसटी और ओबीसी से आते हैं- मोदी
प्रधानमंत्री मोदी ने आरक्षण पर सवाल उठाने वालों पर निशाना साधते हुए कहा कि वे लोग आरक्षण पर सवाल उठा रहे हैं जिन्होंने बाब साहब के सपनों को हमेशा रौंदने का प्रयास किया। उन्होंने कहा, चुनाव से पहले कुछ लोग जनता के बीच यह भ्रम फैलाने का प्रयास कर रहे हैं कि आरक्षण को समाप्त किया जा रहा है। ऐसे लोग गरीब जनता के बीच अविश्वास की खाई पैदा करना चाहते हैं। लेकिन भारत की जनता समझदार है वो इस तरह के दुष्प्रचार को अच्छी तरह से समझती है। ऐसे लोगों को देखना चाहिए कि भाजपा के अधिकांश सांसद और विधायक एससी, एसटी और ओबीसी से आते हैं।

पीएम मोदी ने कहा- भीड़ हिंसा एक अपराध है, चाहे उसका उद्देश्य कुछ भी हो…
पीएम मोदी ने देश में बढ़ती भीड़ हिंसा की घटनाओं पर अपने विचार रखे। उन्होंने विपक्षी दलों के गठबंधन, लोकसभा चुनाव, असम विवाद, भीड़ हिंसा, सोशल मीडिया के दुरुपयोग, युवाओं की शिक्षा और रोजगार सहित विभिन्न मुद्दो पर बात की। गंभीर मसलों पर चिंता जताई वहीं वह सुधारों को लेकर आश्वस्त नजर आए। भीड़ हिंसा की निंदा करते हुए कहा कि यह एक अपराध है। यह
बहुत दुख की बात है कि हमें इस तरह की घटनाओं के बारे में सुनना
पड़ता है। यदि देश में ऐसा एक मामला भी होता है तो यह दुखद है।