हां, मैंने पुलवामा हमले को दुर्घटना कहा, किसी में हिम्मत है तो केस करे : दिग्विजय सिंह

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह अपने बयान पर अडिग हैं। मंगलवार को पुलवामा आतंकी हमले को उन्होंने दुर्घटना करार दिया जिसके बाद भारतीय जनता पार्टी उनपर हमलावार हो गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर भाजपा के कई नेताओं और मंत्रियों ने दिग्विजय सिंह के बहाने कांग्रेस पर निशाना साधा और पार्टी को पाक परस्त बताया। हालांकि कांग्रेस की तरफ से कोई जवाब नहीं आया है लेकिन दिग्विजय सिंह अपने बयान पर कायम हैं।

 उन्होंने बुधवार को धड़ाधड़ कई ट्वीट किए और मोदी सरकार पर सवाल खड़े करते हुए चुनौती दी है कि अगर हिम्मत है तो मुझ पर मुकदमा दर्ज कराएं। कांग्रेस नेता ने ट्वीट में लिखा, “पुलवामा आतंकी हमले को मैंने “दुर्घटना” कह दिया तो मोदी जी से लेकर तीन केंद्रीय मंत्री मुझे पाकिस्तान समर्थक बताने में जुट गये।

उत्तर प्रदेश में भाजपा के उप मुख्य मंत्री केशव मौर्य का बयान कृप्या सुनें। मोदी जी व उनके मंत्रीगण मौर्य जी के बारे में कुछ कहना चाहेंगे? दिग्विजय सिंह ने केशव प्रसाद मौर्य का एक वीडियो रिट्वीट करते हुए पूछा है कि उनपर क्या विचार है।उन्होंने दूसरे ट्वीट में लिखा,  “मेरे जिस ट्वीट पर आप व आपके मंत्री गण मुझे पाकिस्तान समर्थक मानते और देशद्रोही मानते हैं। वह मैंने दिल्ली से किया था जहां की पुलिस केंद्र सरकार के अंतर्गत आती है। अगर आप में साहस है तो मेरे ऊपर मुकदमा दायर करें।

दिग्विजय सिंह ने कहा कि मोदी जी आपने व आपके मंत्री गणों ने मुझ पर अनेक आरोप लगाए हैं। आपके अनेक भाजपा नेता मुझ पर देशद्रोह का मुकदमा दायर करना चाहते हैं।

कांग्रेस नेता ने प्रधानमंत्री से सवाल पूछा है कि आज तक प्रधानमंत्री ने पुलवामा के आतंकी हमले में इंटेलिजेंस फेल के बारे में क्या कार्रवाई की, कौन उसके लिए जिम्मेदार है देश को अवगत नहीं कराया। क्या इस विषय पर मोदी जी किसी को जिम्मेदार ठहराते हैं या नहीं? क्या एनएसए, आईबी चीफ और  रॉ चीफ से आपने स्पष्टीकरण मांगा?

दिग्विजय सिंह ने लिखा है कि पुलवामा आतंकी हमला हमारे लिये, सभी देशवासियों और विशेष तौर पर उस में शहीद हुए बहादुरों के परिवारों के लिए तो दुखद दुर्घटना थी। जो उसे दुखद दुर्घटना ना मानें तो यह उनका विवेक है।