१०० से अधिक मीसाबंदियों ने पेंशन बंद करने के विरोध में टॉवर पर दिया धरना

कांग्रेस सरकार को कोसा, राज्यपाल के नाम सौंपा ज्ञापन

उज्जैन। मप्र की कांग्रेस सरकार द्वारा हाल ही में मीसा बंदियों की पेंशन बंद कर देने के विरोध में गुरुवार को टॉवर चौक पर लोकतंत्र सेनानी संघ के बैनरतले जिले के 100 से अधिक मीसा बंदियों ने धरना दिया।

उन्होंने कांग्रेस सरकार को कोसकर पुन: सम्मान के साथ पेंशन चालू करने की मांग को लेकर प्रदेश की राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा। संघ के जिलाध्यक्ष नरेंद्र सांखला ने बताया सभा में अशोक कोटवानी, वीरेंद्र कावडिय़ा, बाबूलाल जैन, जगदीश अग्रवाल, सुरेश शर्मा, मनोहरलाल जैन, सुकमाल जैन, इंदरसिंह ठाकुर, गोवर्धन पालीवाल सहित 20 से अधिक मीसा बंदियों ने कहा सरकार कोई हमें खेरात में पेंशन नहीं बांटती है।

मीसा बंदियों की पेंशन शुरू कर भाजपा की शिवराज सरकार ने लोकतंत्र के सिपाहियों को सम्मान देने की शुरुआत की थी लेकिन कांग्रेस की कमलनाथ सरकार ने राजनीतिक फैसला लेकर मीसा बंदियों की पेंशन बंद कर उन्हें अपमानित किया है।

मीसा बंदियों ने कांग्रेस सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि पेंशन वापस चालू नहीं की गई तो आने वाले दिनों में सरकार को इसके परिणाम भुगतने होंगे।

धरने में भीम सिंह, उमराव सिंह, महेंद्र नहार, सुरेंद्रसिंह राठौर, नरेंद्र चौधरी, हंसराज अग्रवाल, कैलाश, नारायण, मुकेश जी सहित उज्जैन, रतलाम, ताल, बडऩगर, आगर, मंदसौर सहित उज्जैन व संभाग के अन्य शहरों के 100 से अधिक मीसा बंदी शामिल हुए। धरने के समापन में मप्र के राज्यपाल के नाम मीसा बंदियों ने ज्ञापन भी सौंपा।