10 हजार 895 किसानों को भावांतर की 12 करोड़ से अधिक की राशि का भुगतान

इन्दौर। पशुपालन एवं मत्स्य पालन मंत्री अंतर सिंह आर्य के मुख्य आतिथ्य में लक्ष्मीबाई नगर कृषि उपज मंडी परिसर में मुख्यमंत्री भावांतर योजनांतर्गत जिला स्तरीय किसान सम्मेलन आयोजित किया गया हैं। सम्मेलन को संबोधित करते हुए आर्य ने कहा कि मुख्यमंत्री भावांतर योजना के तहत किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य और मॉडल विक्रय दर के अंतर की राशि किसानों को भावांतर के रूप में प्रदान की गई हैं। इंदौर जिले में 10 हजार 895 किसानों को 12 करोड़ 10 लाख 35 हजार रुपए आर.टी.जी.एस के जरिए किसानों के बैक खातों में प्रदाय किया जा रहा हैं। किसानों को सोयाबीन, उड़द, मूंग, मक्का, तिल, मूंगफली आदि फसलों के लिए भावांतर राशि दी जा रही हैं। यह राशि उन किसानों को दी जा रही जिन किसानों ने 01 नंबवर 2017 से 30 नंबवर के मध्य अपने जिले की कृषि उपज मंडी में कृषि उत्पाद बेचे थे।
मंत्री आर्य ने कहा कि राज्य शासन खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिए कृत संकल्पित हैं। इसी सिलसिले में राज्य शासन द्वारा मुख्यमंत्री कृषि उपज भावांतर योजना लागू की गई हैं। राज्य शासन द्वारा किसानों को बिना ब्याज के ऋण दिया जा रहा हैं। ब्याज की राशि राज्य शासन द्वारा भुगतान की जाती हैं। इसके अलावा किसानों को 24 घंटे बिजली भी दी जा रही हैं। प्रदेश के सभी बड़े ग्राम सडक़ के जरिए मुख्य मार्ग से जोड़ दिए गए हैं। राज्य शासन का उद्देश्य किसानों को मूलभूत सुविधाएं – बिजली, पानी, सडक़ मुहैया कराना हैं। प्रधानमंत्री सडक़ योजना के तहत गांवों में हजारों सडक़े बनाई गई। राज्य शासन द्वारा मुख्यमंत्री भावांतर योजना के लिए बजट में 4 हजार करोड़ का प्रावधान किया गया हैं।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए अध्यक्ष लघु उद्योग निगम बाबू सिंह रधुवंशी ने कहा कि राज्य शासन ने किसानों के लिए अनेक उल्लेखनीय काम किये हैं। गांवों में पेयजल, विद्युत प्रदाय और संपर्क मार्ग की सुविधा बेहतर हुई हैं। कार्यक्रम के अध्यक्ष कृषि स्थाई समिति पुरुषोत्तम धाकड और विधायक सुदर्शन गुप्ता ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम में मंत्री आर्य द्वारा प्रतिकात्मक तौर पर मोहनलाल जगनाथ, राकेश रमेश जाट, देवेंद्र सिंह, नासिर अब्दूल खान, शंकर लाल, कांतिलाल चौधरी को चैक वितरित किये गये। कार्यक्रम को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक वीडियो चैनल के माध्यम से किसानों को संबोधित किया। इस अवसर पर कलेक्टर निशांत वरवड़े, कृषि उपज मण्डी अध्यक्ष आशाराम सिसौदिया, सचिव बी.बी.उस तोमर और बड़ी संख्या में किसान मौजूद थे।