103 परिवारों को सांसद स्वेच्छा अनुदान निधि से 10-10 हजार देने की घोषणा

उज्जैन–  मोती नगर में बेघर हुए लोगों से मिलने पहुंचे सांसद अनिल फिरोजिया पीडि़तों की आप बीती सुन रो पड़े। उन्होंने पुलिस और सरकार की कार्यवाही को बर्बरता पूर्ण बताया। सांसद ने कहा कि लोग अपनी मर्जी से अपने घर खाली करने के लिए तैयार हो गए थे उसके बावजूद पुलिस ने लाठियां चलाई और महिला, बच्चे, बुजुर्गों को भी नहीं छोड़ा। सांसद फिरोजिया ने इस दौरान सभी 103 परिवारों को 10-10 हजार रुपये की सहायता स्वेच्छा अनुदान निधि से देने की घोषणा की है।

कोर्ट के आदेश के बाद मोती नगर के लोग अपने सालों पुराने आशियाने छोडऩे को तैयार हो गए थे, लेकिन इसके बावजूद प्रशासन ने इन पीडि़तों के विस्थापन की उचित व्यवस्था किये बिना इन पर जबरन सख्ती दिखाकर सरकार के सामने अपने नबर बढ़ाने का काम किया है।

शुक्रवार को मोती नगर के पीडि़तों की सुध लेने पहुंचे सांसद अनिल फिरोजिया ने ये बात कही है। इस दौरान सांसद पीडि़तों के लिए नाश्ता लेकर पहुंचे और सभी को नाश्ता करवाया। इसके बाद सभी के भोजन के लिए सिख समाज से अनुरोध कर गुरुद्वारे में लंगर चालू करवाया।

लोगों की आप बीती सुनते सुनते सांसद फिरोजिया की आंखों से भी आंसू टपक पड़े।जिन युवाओं को जबरन बैठाया सभी को तत्तकाल छोड़े : सांसद ने मौके से ही जिम्मेदार अधिकारियों को कॉल किया और मोती नगर के निर्दोष लोगों को जिन्हें पुलिस ने जबरन हिरासत में लिया है उन्हें बिना देरी के छोडऩे के निर्देश दिए।