CM शिवराज की घोषणा,75 फीसदी अंक लाने वाले सभी विद्यार्थियों को मिलेगा लैपटॉप

भोपाल. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 12वीं में 75 फीसदी अंक लाने वाले सभी विद्यार्थियों को लैपटॉप देने का ऐलान किया है। उन्होंने ये घोषणा एक छात्रा के सवाल के जवाब में दी। असल में, भोपाल की एक छात्रा ने कहा कि मेरे 84.6 फीसदी अंक हैं तो क्या मुझे लैपटॉप नहीं मिल पाएगा। इस पर सीएम शिवराज ने कहा कि 75 फीसदी अंक लाने वाले सभी विद्यार्थियों को लैपटॉप दिया जाएगा।

सीएम ने विद्यार्थियों की मांग पर प्रदेश के हर जिले में कैरियर काउंसिलिंग सेंटर खोलने का ऐलान किया है। साथ ही उन्होंने विद्यार्थियों के लिए मुख्यमंत्री जनकल्याण योजना जुलाई से लागू करने की घोषणा कर दी। इसके तहत हर निम्न और मध्यमवर्गीय गरीब छात्रों की पढ़ाई का खर्च मध्य प्रदेश सरकार उठाएगी।

– सीएम शिवराज शुक्रवार को ‘हम छू लेंगे आसमां’ के दूसरे चरण में विद्यार्थियों से बात की। उन्होंने कहा, फेल होने से सब कुछ खत्म नहीं हो जाता है। उन्होंने विद्यार्थियों को क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर, महाकवि कालिदास और तुसलीदासजी सहित कई लोगों के उदाहरण दिए। उन्होंने कहा आपके लिए सफलता कोई एक नहीं, कई रास्ते हैं।

उन्होंने कहा कि इन सभी लोगों ने अपने-अपने क्षेत्र में अपना नाम बनाया, आप भी पसंदीदा क्षेत्र में नाम बना सकते हैं। देश में एक तरफ बेरोजगारी है तो दूसरे तरफ ऐसे लोगों की कमी है जो स्किल्ड हो। इतने तरह की आवश्यक्ताएं है कि कई बार इसके लिए बाहर से लोग बुलाने पड़ते हैं।

सीएम ने कहा कि मैं आप लोगों से बहुत प्यार करता हूं। किसी के कहने पर अपने करियर की राह मत चुनना, हमेशा सलाह लेना। मेरे पिताजी मुझे डॉक्टर बनना चाहते थे, लेकिन मैं डिशेक्शन नहीं करना चाहता था। मैंने अपनी बात निर्भयता के साथ पिताजी को बताई थी और वो मान गए। पढ़ाई भी रुचि के अनुसार होनी चाहिए, जिसमें मन लगे और आनंद आए। करियर काउंसलिंग इसीलिए हम कर रहे हैं, ताकि बच्चे अपने लिए सही मार्ग चुन सकें।

– हमने 70 प्रतिशत ज्यादा लाने वाले बच्चों के लिए मेधावी विद्यार्थी योजना बनाई है, लेकिन 70 से कम लाने वाले गरीब परिवार के बच्चों के लिए मुख्यमंत्री जनकल्याण योजना होगी। इसे जुलाई से लागू कर रहे हैं। इसके तहत गरीब परिवार और निम्न मध्यमर्गीय परिवार के बच्चों को फायदा मिलेगा। सरकार इन बच्चों की फीस भरेगी।

उन्होंने कहा कि भगवान ने सबको समान बुद्धि दी है, आपको इसका इस्तेमाल करना चाहिए। कई बच्चे सोचते हैं कि मैं कुछ नहीं कर सकता और थर्ड डिवीजन और ग्रेस में भी संतुष्ट हो जाते हैं, ऐसे बच्चे आगे नहीं बढ़ सकते।

सीएम ने बच्चों के सवाल का जवाब देते हुए कहा कि अगर आपके दिल में लोगों के लिए कुछ करने की इच्छा हो तो आप सीएम तो क्या पीएम भी बन सकते हैं। सफलता पाने के लिए धैर्य चाहिए। कुछ लोग हतोत्साहित करते हैं, उनके तरफ ध्यान न दें।

बता दें कि इस योजन के पहले चरण में मुख्यमंत्री ने 21 मई को भोपाल के मॉडल स्कूल, टी.टी. नगर से आकाशवाणी और दूरदर्शन के माध्यम से विद्यार्थियों से सीधा संवाद किया था। छू लेंगे आसमाँ के दूसरे चरण में 8 से 15 जून तक 12वीं बोर्ड की परीक्षा में उत्तीर्ण तथा 70 प्रतिशत से कम अंक प्राप्त करने वाले करीब 3 लाख 33 हजार विद्यार्थियों से काउंसिलिंग की जायेगी। हम छू लेंगे आसमाँ योजना का क्रियान्वयन स्कूल शिक्षा, तकनीकी शिक्षा और उच्च शिक्षा विभाग संयुक्त रूप से मिलकर कर रहे हैं। कार्यक्रम में मंत्री दीपक जोशी, सीएम के पीएस अशोक वर्णवाल, शिक्षा मंडल के अध्यक्ष SR मोहंती सहित अनेक अधिकारी, शिक्षक, छात्र-छात्राएं शामिल हुए।