Computer Networking में बनाये अपना करियर

आईटी कंपनियों या जहां भी स्टोर डेटा को एक पूल से दूसरे पूल या अन्य कई पूल तक पहुंचाने की जरूरत होती है, वहां स्टोरेज एरिया नेटवर्क में प्रशिक्षित युवाओं की काफी मांग है। यह एक ऐसा क्षेत्र है, जिसमें निपुणता हासिल करने के बाद नौकरी के लिए ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ता। वैसे भी इससे संबंधित अधिकतर कोर्स में इंटर्नशिप करवाई जाती है।

इस दौरान ही युवाओं की आमदनी भी शुरू हो जाती है। यदि कंपनी को इंटरर्नशिप के दौरान छात्र का काम मनमाफिक लगता है तो वहीं पर उसे नौकरी का ऑफर भी मिल जाता है। गूगल, एप्पल और आईबीएम जैसी कंपनियों में सैन मशीनें काम करती हैं ताकि उनका डेटा और आईटी सिस्टम सही तरीके से मैनेज हो सकें।

इन मशीनों से ही क्लाउड का जन्म हुआ। क्लाउड एक प्रोसेस है, जहां सॉफ्टवेयर के साथ डेटा को नियंत्रित और प्रबंधित किया जाता है। इन मशीनों के बिना क्लाउड संभव नहीं है। ये मशीनें काफी महंगी होती हैं, इसलिए कोर्स करवाने वाले हर संस्थान के पास उपलब्ध नहीं होतीं। कोर्स के चुनाव से पहले यह मालूम कर लें कि संस्थान में व्यावहारिक अभ्यास की कितनी व्यवस्था है। कंपनियों को भी आज प्रशिक्षित और निपुण युवाओं की जरूरत है।

कंपनियां चाहती हैं कि उन्हें ऐसे कर्मचारी मिलें, जो उनके काम और कार्य संस्कृति से भली-भांति परिचित हों। ताकि उन्हें काम सिखाना न पड़े। इसलिए आज स्टोरेज एरिया नेटवर्किंग में दक्ष युवाओं की मांग बढ़ रही है।

पाठ्यक्रम
इस कोर्स के सिलेबस में कंप्यूटर आर्किटेक्चर पर प्रैक्टिकल, सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर की जानकारी, सर्वर मशीन पर चिप लेवल स्तर तक का कार्य सिखाना, क्लाउड और सैन मशीन को खोल कर उसे पूर्ण रूप से चलने योग्य असेंबल करना एवं उनका संचालन करना, डेटा मैनेजमेंट और डिजास्टर रिकवरी लेवल तक सैन मशीन पर कार्य करना आदि शामिल हैं।

स्टोरेज एरियर नेटवर्क (सैन) कोर्स
यह कोर्स अलग-अलग संस्थानों में 18 महीने से लेकर दो वर्ष तक का है। कोर्स के शुरुआती आठ से 10 महीनों तक थ्योरी व प्रैक्टिकल करवाए जाते हैं। इसके बाद संबंधित कंपनियों में इंटर्नशिप कराई जाती है। इंटर्नशिप के दौरान छात्र बड़ी कंपनियों के कौशल स्तर तक पहुंच जाते हैं।

कोर्स के बाद वे इन कंपनियों में 20 से 25 हजार रुपये वेतन की नौकरी हासिल कर सकते हैं। काम की गुणवत्ता बढ़ने के अनुरूप वेतन भी बढ़कर एक लाख रुपये तक हो सकता है।

योग्यता
यह कोर्स 12वीं या गे्रजुएशन/बीटेक/बीएड के छात्र कर सकते हैं। 12वीं में आपके पास कोई भी विषय हो, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, लेकिन 12वीं के छात्रों को एक से दो माह का फाउंडेशन कोर्स कराया जाता है, जिसमें वे टेक्नोलॉजी से रूबरू होते हैं और फिर आगे की पढ़ाई करते हैं। बीटेक या कंप्यूटर हार्डवेयर, नेटवर्किंग के छात्र भी पै्रक्टिकल ट्रेनिंग ले सकते हैं, ताकि वे कंपनियों की मांग के अनुरूप बन सकें।

स्टोरेज एरिया नेटवर्क यानी सैन। यह एक हाई-स्पीड नेटवर्क या सब-नेटवर्क है, जो कई सर्वर के लिए स्टोरेज डिवाइस के साझा पूल को आपस में जोड़ता है। इस कोर्स आईटी में आपका करियर बना सकता है।

– लॉजिक इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, कोच्चि वेबसाइट
– नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, कालीकट
– एडवांस्ड स्कूल ऑफ इलैक्ट्रॉनिक्स एंड टेक्नोलॉजी वेबसाइट
– विवेकानंद आईटी इंस्टीट्यूट, वडोदरा