Hanuman Jayanti 2019: हनुमानजी के जन्म से जुड़ी 10 कहानियां

1- मान्यताओं के अनुसार हनुमानजी के जन्म का स्थान झारखंड के आंजन गांव में स्थिति एक गुफा में माना जाता है।

2- आंजन गांव में एकमात्र ऐसा मंदिर है, जहां भगवान हनुमान अपनी माता अंजना की गोद में बैठे दिखाई देते हैं।

3 -मान्यता के अनुसार पवनदेव ने वानरराज केसरी की पत्नी अंजना के गर्भ में वीर्य प्रविष्ट कर दिया। इसके फलस्वरूप माता अंजना के गर्भ से श्री हनुमान का जन्म हुआ।

4- हनुमान जी और भीम भाई थे। कुंती को भीम भी पवन देव के आशीर्वाद से प्राप्त हुए थे इस कारण से दोनों भाई हुए।

5- हनुमान जी भगवान राम के अलावा माँ जगदम्बा के भी बहुत बड़े भक्त थे। हर मंदिर में जहां माता जगदम्बा की प्रतिमा होती है वहां पर बजरंगली की प्रतिमा भी जरूर होती है

6- जब हनुमान जी बाल्य अवस्था में थे तो उस दौरान उन्हें बहुत जोर की भूख लगी, तो उन्होंने सूर्य को लाल फल समझ कर निकल लिया था।

7- हनुमानजी ने रामायण वाल्मीकि से पहले ही लिख डाली थी जिसे बाद में उन्होंने समुद्र में फेंक दिया था।

8- ऐसी मान्यता है कि हनुमानजी आज भी जीवित है और कलयुग के समाप्ति तक इस पृथ्वी पर रहेगा।

9 – हनुमान जी को सभी ब्रह्मचारी के रूप में जानते हैं लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि उनका मकरध्वज नाम का एक बेटा भी था।

10 – हनुमान जी का विवाह भी हुआ था। दरअसल जब हनुमान जी सूर्यदेव से शिक्षा प्राप्त कर रहे थे तब एक विद्या को प्राप्त करने के लिए वैवाहिक होना जरूरी था। इस  शर्त को पूरा करने के लिए सूर्यदेव ने अपनी पुत्री का विवाह हनुमानजी से कर दिया था।