सर्दियों में चाहिये गर्मी का एहसास तो खाने में डालें ये चीज

जिसे देखो, वह सर्दी से ठिठुर रहा है। कोई रजाई से बाहर आने में दस बार सोचता है, तो कोई खुद को गर्म कपड़ों के बोझ तले दबा लेना चाहता है। ठंड है कि फिर भी पीछा ही नहीं छोड़ रही। सर्दी का मौसम उनके लिए काफी तकलीफों भरा होता है, जो शारीरिक रूप से कमजोर होते हैं। इन दिनों सर्दी-खांसी, बुखार, गले में खरास आदि कुछ आम बीमारियों से लोग परेशान रहते हैं। मौसमी बदलाव के कारण हुई इन बीमारियों के लिए दवा खाने से बचें। आखिर करें तो क्या करें?ठंड से बचने के लिए आपने एक से बढ़कर एक तरकीब आजमा लिए, लेकिन इससे बचने के उपाय आपके घर के किचन में ही मौजूद हैं।

कुछ मसाले जैसे लौंग, काली मिर्च, जायफल आदि की तासीर बहुत गर्म होती है। इनका सेवन करके देखिए, ये आपको अंदरूनी तौर पर गर्मी प्रदान करेंगी। मसालों के सेवन से न सिर्फ आप खुद के शरीर को बदलते मौसम के अनुसार ढाल सकते हैं, बल्कि संक्रमणों और ठंड के दुष्प्रभावों से भी बचे रह सकते हैं।

मेथी: इसमें एंटीवायरल गुण होते हैं, जो उन जीवाणुओं को नष्ट कर देते हैं, जो छींकें आने और गले में खरास का कारण बनते हैं।

जायफल: इसकी तासीर गर्म होती है। इसके जीवाणुरोधी गुण शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाते हैं। गर्म दूध में इलायची और शहद की कुछ बूंदों के साथ जायफल पाउडर मिलाकर पीने से सर्दियों में होने वाले अवसाद आपसे दूर रहेंगे।

काली मिर्च: इसमें कई एंटीऑक्सीडेंट्स मौजूद होते हैं, जो शरीर के मेटाबॉलिज्म को सुधारने का काम करते हैं। काली मिर्च को चाय सहित ज्यादातर भारतीय व्यंजनों में प्रयोग किया जाता है। सर्दियों में काली मिर्च को पीसकर दूध के साथ सेवन करने से भी लाभ होता है।

लौंग: एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीसेप्टिक और डेंटल-सूदिंग गुणों से भरपूर होती है लौंग। दुनिया भर में इसे अपनी औषधीय विशेषताओं के लिए जाना जाता है। सब्जी आदि में इसका उपयोग इन दिनों करने से सेहत पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

इलायची: एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर इलायची रक्त के विषाक्तीकरण (डिटॉक्सिफिकेशन) में मदद करती है। इसके सेवन से पाचन क्रिया भी बेहतर होती है। इसमें विटामिन सी पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। चाय में इसे डालकर पीने से ठंड के लक्षण दूर होते हैं। सर्दियों के मौसम में इलायची का सेवन करने से शरीर को काफी आराम मिलता है।

दालचीनी: कई औषधीय गुणों और एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होती है दालचीनी। इसे चाय में अदरक के साथ मिलाकर पीने से आप सर्दी को काफी आसानी से हरा सकते हैं। दालचीनी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने के साथ-साथ बैक्टीरिया के संक्रमण से भी शरीर की रक्षा करती है।

केसर: हमारे स्वास्थ्य को केसर कई प्रकार से लाभ पहुंचाता है। यह ठंड से भी तत्काल राहत देता है। सर्दी में केसर को दूध की कुछ बूंदों के साथ मिलाकर माथे पर लगाने से आराम मिलता है।

हल्दी: दूध में हल्दी मिलाकर पीने से प्रतिरक्षा प्रणाली बढ़ जाती है। विभिन्न प्रकार के संक्रमण दूर होते हैं। हल्दी के एंटीऑक्सीडेंट, एंटीबैक्टीरियल (जीवाणुरोधी) और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण कई रोगों से निपटने में सहायक होते हैं। यह शरीर को अंदरूनी तौर पर गर्मी प्रदान करती है। इसका सेवन रात में सोने से पहले गर्म दूध में डालकर करें। कई बीमारियों से बचे रहेंगे।

विशेषज्ञ कहते हैं-

सर्दियों में शरीर का तापमान काफी कम हो जाता है। इस दौरान शरीर को अंदर से गर्म रखने के लिए काली मिर्च, लौंग, केसर, जायफल आदि मसालों का सेवन करना चाहिए। इनकी तासीर गर्म होती है। ठंड में अधिक मिठाई खाते हैं, तो इन मसालों का उपयोग करें, क्योंकि ये मीठे खाद्य पदार्थों को अच्छी तरह से पचाती हैं।

पाचन क्रिया भी दुरुस्त रहती है। जिन्हें पेट में जलन रहता है, उन्हें काली मिर्च की बजाय लौंग खानी चाहिए। सर्दी में दूध के साथ हल्दी मिलाकर पीने से प्रतिरक्षा तंत्र मजबूत होती है। तला-भुना, फास्ट फूड आदि खाने वालों को इनके सेवन से बचना चाहिए। कफ है, तो खाना फायदेमंद है, लेकिन गैस, पित्त संबंधी रोगों में इन्हें खाना हानिकारक है।