Wednesday, October 4, 2023
Homeउज्जैन एक्टिविटीअभिनन्दन ग्रन्थ 'देव प्रवाह' का विमोचन

अभिनन्दन ग्रन्थ ‘देव प्रवाह’ का विमोचन

अक्षरविश्व न्यूज उज्जैन। देव जी सदैव ईश्वर अराधना में रत रहते हैं और योग्यता होने पर भी सर्वसाधारण बन कर रहते हैं। सनातन ऋषि परंपरा में लौकिक सुखों का आनंद लेते हुए, परमार्थ और परमात्मा की साधना में देव जी लीन रहते हैं।

ये विचार परमाचार्य डॉ देवकरण शर्मा देव के अमृत महोत्सव के अंतर्गत कालिदास अकादमी में आयोजित सम्मान एवं अभिनन्दन ग्रन्थ विमोचन कार्यक्रम में रामानुज पीठाधीश्वर श्री रंगनाथाचार्य महाराज ने सारस्वत अतिथि के रूप में व्यक्त किये। महामंडलेश्वर श्री अतुलेशानंद महाराज, प्रमुख अतिथि उच्च शिक्षा मंत्री डॉ मोहन यादव, पूर्व कुलपति डॉ मोहन गुप्त, विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति अखिलेश कुमार पांडेय, चारुदत्त पिंगले, गजेन्द्र शर्मा, डॉ. ईश्वर शर्मा, विधायक रामलाल मालवीय, पिंग्लेश कचोले, डॉ पिलकेंद्र अरोरा, हर्षवर्धन शर्मा, आयुषी शर्मा, अशोक भंडारी, शरद नागर आदि ने अपने विचार व्यक्त किए।

समारोह में अभिनन्दन ग्रन्थ ‘देव प्रवाह’ का विमोचन अतिथियों ने किया। देव प्रवाह के प्रधान संपादक शिव चौरसिया ने अभिनंदन ग्रन्थ के प्रकाशन की पृष्ठभूमि पर प्रकाश डाला। इस अवसर पर संपादक मंडल के सदस्य शिव चौरसिया, डॉ. हरीशकुमारसिंह, डॉ. तुलसीदास परौहा, डॉ. धर्मपाल शर्मा, परमानंद शर्मा अमन, ईश्वर शर्मा का सम्मान आयुक्त उच्च शिक्षा श्री कर्मवीर शर्मा ने किया। परमाचार्य जी के जीवन पर आचार्य शैलेन्द्र पाराशर द्वारा निर्मित वृतचित्र का प्रसारण किया गया। अपने अभिनन्दन के प्रतिउत्तर में परमाचार्य डॉ. देवकरण शर्मा देव ने अपने विचार व्यक्त किए। आयोजन में महर्षि पाणिनि संस्कृत विवि के कुलपति विजय कुमार सी जी, प्रो. हरिमोहन बुधौलिया, सूरज नागर आदि उपस्थित रहे। स्वागत भाषण कर्मवीर शर्मा ने दिया सरस्वती वंदना दीप्ति शर्मा ने प्रस्तुत की। आभार धर्मपाल शर्मा ने माना।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर