Wednesday, May 18, 2022
Homeधर्मं/ज्योतिष इस दिन है हनुमान जयंती, जानें

 इस दिन है हनुमान जयंती, जानें

हनुमान जयंती हनुमान भक्तों के लिए किसी पर्व से कम नहीं है. ऐसे में इस साल हनुमान जयंती 16 अप्रैल दिन शनिवार को मनाई जाएगी. इस बार हनुमान जयंती शनिवार के दिन पड़ रही है इसलिए ये और भी महत्व रखने वाली जयंती है. बता दें कि मंगलवार और शनिवार का दिन हनुमान जी को समर्पित है. बता दें कि हनुमान जयंती चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को मनाई जाती है. कहते हैं कि इस दिन हनुमान जी का जन्म हुआ था. वहीं इस दिन हनुमान जी की पूजा विधि-विधान से करने पर हनुमान जी सारे कष्टों को दूर करते हैं. जानते हैं हनुमान जयंती की तिथि और शुभ मुहूर्त

हनुमान जयंती की तिथि और शुभ मुहूर्त

चैत्र माह की पूर्णिमा तिथि – 16 अप्रैल, शनिवार रात 02.25 मिनट से शुरू
चैत्र माह की पूर्णिमा तिथि – 17 अप्रैल सुबह 12.24 मिनट पर समाप्त

हनुमान जयंती का महत्व

कलयुग के समय में हनुमान जी को कलयुग में सबसे ज्यादा प्रभावशाली और जल्दी प्रसन्न होने वाले देवताओं में से एक माना जाता है। उन्हें भगवान शिव के अंश के रूप में ही पूजा जाता है। भक्त उनके जन्म दिवस को बड़ी ही श्रद्धा भा से मानते हैं। ऐसी मान्यता है कि इस दिन पूरी श्रद्धा और भक्ति भाव से 11 बार हनुमान चालीसा का पाठकरने से हनुमान जी की विशेष कृपा दृष्टि प्राप्त होती है। ऐसी मान्यता है कि भक्ति भाव से भगवान हनुमान की पूजा और हनुमान चालीसा का पाठ करने से समस्त पापों से मुक्ति मिलती है और मोक्ष का द्वार खुलता है।

हनुमान जी के जन्म की कथा

भगवान शिव का अंश माने जाने वाले हनुमान जी के जन्म की कथा का जिक्र विशेष रूप से पुराणों में किया गया है। हनुमान जी के जन्म की कथा के अनुसार एक बार जब राजा दशरथ और उनकी तीनों पत्नियों के यज्ञ से प्रसन्न होकर अग्नि देव ने उन्हें खीर खाने को दी तब उस खीर का एक हिस्सा एक चील लेकर उड़ गयी। उस समय माता अंजना पूजा कर रही थीं और चील जब उनके आश्रम के बाहर से उड़ी तब खीर का कुछ हिस्सा उनके मुंह में आ गिरा, जिससे वो गर्भवती हो गयीं और उन्होंने भगवान् शिवजी के 11वें रूद्र अवतार हनुमान जी को जन्म दिया। तभी से हनुमान जंयती को हनुमान जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है।

हनुमान जयंती पूजा विधि

  • ऐसी मान्यता है कि हनुमान जयंती के दिन हनुमान जी के भक्तों को ग्रहों के दोष-मारकेश अथवा मरण तुल्य कष्ट देने वाले ग्रहों की दशा का दोष नहीं लगता है।
  • इस दिन इनकी आराधना करने से सभी अशुभ ग्रह शुभ फल देने के लिए विवश हो जाते हैं।
  • हनुमान जयंती के दिन विशेष रूप से पूजन करने के लिए स्नान आदि से मुक्त होकर हाथों में गंगाजल लें और भगवान राम,
  • सीता जी और हनुमान का ध्यान करते हुए संकल्प लें।
  • उसके बाद पूजा स्थान पर पूर्व या उत्तर दिशा में मुख करके आसन बिछाकर बैठ जाएं।
  • पूजा स्थल पर बैठने के बाद अपना आसन पूर्व या उत्तर दिशा में रखें।
  • हनुमान जी की मूर्ति को पूजा स्थल पर स्थापित करें और पंचामृत शुद्ध जल,दही शहद और तिल या चमेली का तेल अर्पित करें।
  • दीपक जलाकर भगवान हनुमान की पूजा करें।
  • इस दिन हनुमान जी की मूर्ति पर पीला सिंदूर अवश्य चढ़ाएं और बेसन से बना भोग लगाएं।
  • हनुमान जयंती के दिन सुख समृद्धि के उपाय

हनुमान मंत्र जाप और दोहे

1. नासै रोग हरै सब पीरा।
जपत निरन्तर हनुमत बीरा।

मान्यता है कि जो लोग बीमार रहते हैं या रोगों से घिरे रहते हैं, उन्हें इस चौपाई का पाठ करना चाहिए. इससे रोग दूर हो जाते हैं, मान्यता है कि जो व्यक्ति इसका नियमित पाठ करता है वह बलवान हो जाता है.

2. ॐ महाबलाय वीराय चिरंजिवीन उद्दते ।
हारिणे वज्र देहाय चोलंग्घितमहाव्यये ।।

अगर आप किसी खास चीज की मनोकामना है तो हनुमान जयंती के दिन इस मंत्र का जाप कम से कम 108 बार अवश्य करें.

3. ।। ॐ नमो हनुमते रूद्रावताराय सर्वशत्रुसंहारणाय सर्वरोग हराय सर्ववशीकरणाय रामदूताय स्वाहा ।।

शत्रुओं और  रोगों पर विजय पाने के लिए हनुमान जयंती के दिन इस मंत्र का जाप 108 बार करें.

4.  ‘विद्यावान गुनी अति चातुर।
राम काज करिबे को आतुर।।

मान्यता है कि हनुमान जी की कृपा पाने के लिए छात्रों को नियमित रूप से हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए. चालीसा पाठ करने से स्मरण शक्ति बढ़ती है और शिक्षा के 7ेत्र में कामयाबी मिलती है.

हनुमान चालीसा के फायदे

हनुमान जयंती पर हनुमान चालीसा  का पाठ अवश्य करें. हनुमान चालीसा का पाठ करने से व्यक्ति के आर्थिक चिंताएं दूर होती हैं और व्यक्ति के मनोबल में वृद्धि होती है.

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर