Monday, May 16, 2022
Homeदेशउज्जैन:जनवरी तक पूरा होगा MAHAKAL प्रोजेक्ट

उज्जैन:जनवरी तक पूरा होगा MAHAKAL प्रोजेक्ट

250 वर्षों बाद इतने बड़े पैमाने पर हो रहा महाकाल मंदिर क्षेत्र का निर्माण कार्य

पीएम मोदी से कराएंगे उद्घाटन, मंत्री, सांसद, विधायक और कलेक्टर ने किया निरीक्षण

उज्जैन। 250 वर्ष पूर्व महाकालेश्वर मंदिर में निर्माण कार्य हुआ था उसके बाद अब केंद्र व राज्य सरकार द्वारा महाकाल मंदिर क्षेत्र में 500 करोड़ की लागत से इतने बड़े पैमाने पर निर्माण कार्य कराये जा रहे हैं।

महाकालेश्वर मंदिर की पहचान विश्वस्तरीय है इस कारण निर्माण भी उसी स्तर का होना चाहिए। यह बात उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने महाकाल वन प्रोजेक्ट का स्थल निरीक्षण करते हुए कलेक्टर से कही। ओपन ऑडिटोरियम से लोग देखेंगे लाइट एंड साउंड शो: प्रोजेक्ट के तहत रूद्रसागर में लाइट एंड साउण्ड शो शुरू करने की भी योजना है। इसे देखने के लिए ओपन ऑडिटोरियम का निर्माण चल रहा है। इसमें 500 लोगों के बैठने की क्षमता है जो एक समय में एक साथ शो देख सकते हैं। इसके अलावा यहां पर छोटा स्टेज भी निर्मित किया जा रहा है। जिस पर नाटक, योग या अन्य प्रदर्शन होंगे।

ओपनिंग के लिये पीएम मोदी को बुलाएंगे: केंद्र सरकार के सहयोग से महाकाल मंदिर क्षेत्र में चल रहे 500 करोड़ के निर्माण कार्यों को जनवरी माह तक पूरा करने की बात कहते हुए डॉ. यादव ने कहा ओपनिंग के लिए पीएम नरेंद्र मोदी को बुलाने के प्रयास किए जाएंगे। कलेक्टर आशीष सिंह ने बताया जनवरी तक प्रोजेक्ट पूरा कर लिया जाएगा। डॉ. यादव ने बताया प्रोजेक्टर पूरा होने के बाद यहां अखिल भारतीय स्तर के कार्यक्रम भी आयोजित किये जाएंगे।

प्रवेश द्वार सजावट में पीतल का उपयोग करें
निरीक्षण के दौरान जनप्रतिनिधि और प्रशासनिक अधिकारी त्रिवेणी संग्रहालय-चारधाम मार्ग की ओर बन रहे मंदिर प्रवेश द्वार के पास पहुंचे। यहां उन्होंने निर्माण कार्य की जानकारी ली। इस दौरान डॉ. यादव ने सुझाव दिया कि प्रवेश द्वार की सजावट में पीतल का उपयोग किया जाए। इस पर सांसद अनिल फिरोजिया ने सहमति जताई। साथ ही रूद्रसागर में बनने वाली ब्रिज को भोपाल में बने आकर्षक ब्रिज की तरह बनाने की सलाह विधायक जैन ने दी।

2000 लोगों की कैपेसिटी का प्रवचन हॉल बनायें
त्रिवेणी संग्रहालय के सामने मल्टीलेवल पार्किंग, महाकाल प्रवचन हॉल और धर्मशाला का निर्माण किया जा रहा है। निरीक्षण के दौरान विधायक पारस जैन ने कलेक्टर आशीष सिंह से पूछा कि प्रवचन हॉल कितने लोगों की कैपेसिटी का बनने वाला है कलेक्टर ने जवाब दिया 1500 लोग एक साथ बैठ सकते हैं तो उन्होंने क्षमता बढ़ाकर 2000 करने की बात कही जिस पर मंत्री डॉ. यादव ने भी सहमति जताई।

पंचमुखी शिव स्तंभ और सप्त ऋषियों की जानकारी ली
त्रिवेणी संग्रहालय के पास एक कमल कुंड बनाया है। इसी के पास सप्त ऋषियों की मूर्तियां भी स्थापित की गई हैं। यहीं पंचमुखी शिव स्तंभ भी बनाया है। सांसद फिरोजिया ने इसकी जानकारी ली, वहीं मंत्री डॉ. यादव ने सप्तऋषियों के बारे में कलेक्टर से पूछा और बाद में बताया कि इन्हीं सप्तऋषियों का संबंध सनातन धर्म के सभी प्राणियों के गौत्र से जुड़ा है।

अन्य शहरों में भी प्रचार करें
जनप्रतिनिधियों ने कलेक्टर सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारियों से कहा कि महाकालेश्वर मंदिर के आसपास इतने बड़े पैमाने पर निर्माण कार्य चल रहे हैं इसका प्रचार प्रसार उज्जैन सहित अन्य शहरों में भी किया जाए। प्रोजेक्ट के वीडियो बनाकर एलईडी स्क्रीन पर भी प्रचार करें।

मूर्तियों का मुंह प्रवेश द्वार की तरफ करें
त्रिवेणी संग्रहालय के पास से महाकालेश्वर मंदिर की ओर जाने के लिए दो प्रवेश द्वार बनाये जा रहे हैं। जिसमें एक प्रवेश द्वार रेलवे यात्रियों के लिए रहेगा, दूसरा गेट सामान्य दर्शनार्थियों के लिए। इन दोनों गेट से प्रवेश करते ही आकर्षक मूर्तियां स्थापित की गई है।

इन मूर्तियों का चेहरा महाकालेश्वर मंदिर की तरफ है। इस पर सांसद अनिल फिरोजिया ने कलेक्टर से कारण पूछा जिसका जवाब अधीक्षण यंत्री धर्मेन्द्र वर्मा ने देते हुए कहा कि शिव परिवार की मूर्तियां हैं इस कारण चेहरा उधर किया है। इस पर सांसद फिरोजिया ने मूर्तियों का चेहरा गेट की तरफ करने का सुझाव दिया जिस पर कलेक्टर ने सहमति जताई।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर