Friday, May 27, 2022
Homeउज्जैनउज्जैन:तिहरे हत्याकांड का खुलासा...दो आरोपी गिरफ्तार

उज्जैन:तिहरे हत्याकांड का खुलासा…दो आरोपी गिरफ्तार

कॉल डिटेल से आरोपियों तक पहुंची पुलिस

2.75 लाख के कर्ज से बचने के लिए मारा पिता-पुत्र और मां को

दोनों आरोपी ग्रामीण क्षेत्रों में दाल-चावल बेचने का करते थे काम

उज्जैन। इंगोरिया क्षेत्र में पिता-पुत्र और पिपलीनाका स्थित हरिनगर में वृद्ध महिला की हत्या के मामले में उज्जैन पुलिस दो अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया है। कॉल डिटेल और सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस आरोपियों तक पहुंची है।

इंगोरिया क्षेत्र में रविवार को हरिनगर निवासी राजेश नागर और उनके बेटे पार्थ नागर की लाश बरामद की थी। इनकी शिनाख्ती के कोशिश में पुलिस को हरिनगर क्षेत्र के एक बंद मकान से मृतक राजेश की मां सरोज नागर की लाश बिस्तर पेटी से मिली थी। हत्याकांड पुलिस के लिए चुनौती बन गया था। इसके लिए पुलिस ने विशेष दलों का गठन भी किया था।

एसएसपी सत्येंद्र शुक्ला ने बताया कि मृतक राजेश और उनका बेटा छोटे व्यापारी और ठेला लगाने वालों को ब्याज पर पैसा देते थे। जांच में पता चला कि इन दोनों ने दो अलग-अलग व्यक्तियों को भी दो लाख से अधिक का कर्ज दे रखा था। वहीं मृतक के मोबाइल पर एक नंबर ऐसा भी जिस पर राजेश की कई मर्तबा बात हुई थी।

यह फोन घटना के बाद से बंद आ रहा था। इस आधार पर पुलिस ने जांच को आगे बढ़ाया। बताया जाता है कि दिनेश निवासी कमल कॉलोनी और जयराम मूलत: सागर का निवासी है और पिछले कुछ वर्षों से उज्जैन में निवास करता है। वह दिनेश के साथ मिलकर सब्जी का ठेला लगाने के साथ-साथ लोडिंग ऑटो में ग्रामीण क्षेत्रों दाल-चावल बेचने का काम करते थे। तिहरे हत्याकांड के बाद जयराम इंदौर में अपने भाई के यहां परिवार को छोड़कर सागर भाग गया था।

बाप-बेटे की हत्या के बाद मां को गला घोंटकर मारा जयराम और दिनेश ने राजेश नागर और उसके बेटे पार्थ की हत्या व लाश नाले में फेंकी और हरिनगर स्थित उनके घर पहुंचे यहां राजेश नागर की मां सरोज नागर ने बेटे और पोते के बारे में उनसे पूछा तो उन्होंने कहा कि दोनों आगर गए हैं लौट आएंगे। इसी दौरान जयराम ने मौका पाकर सरोज नागर की गला घोंटकर हत्या कर दी औरलाश को पलंग पेटी में छिपा दिया। 

जयराम और दिनेश ने सरोज नागर की गला घोंटकर हत्या करने के बाद हाथ-पैर बांधकर शव को पलंग पेटी में छिपाया और अलमारियों को खोलकर राजेश नागर को कर्ज के बदले दिए गए हस्ताक्षर किए हुए चेक की तलाश की। दोनों ने पुलिस पूछताछ में कबूला कि उन्हें घर से चेक नहीं मिले तो पलंग पेटी और घर के मेन गेट पर ताला लगाकर चले गए थे।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर